जागरण ब्यूरो, नई दिल्ली। पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी देश की उन चंद बड़ी विभूतियों में शामिल हो जाएंगे जिनकी तस्वीर संसद के केंद्रीय कक्ष में होगी। राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद सेंट्रल हॉल में मंगलवार को एक भव्य समारोह के दौरान वाजपेयी की तैल चित्र वाली इस तस्वीर का अनावरण करेंगे। इस दौरान उपराष्ट्रपति वेंकैया नायडु, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और लोकसभा स्पीकर सुमित्रा महाजन के साथ सरकार ही नहीं विपक्षी दलों के तमाम दिग्गज नेता भी मौजूद रहेंगे।

सेंट्रल हॉल में पूर्व पीएम की तस्वीर का 12 फरवरी को राष्ट्रपति करेंगे अनावरण

राजनीति में दलीय सीमा से उपर अटल बिहारी वाजपेयी की यह लोकप्रियता ही है कि सेंट्रल हॉल में पूर्व प्रधानमंत्री की तस्वीर लगाने के प्रस्ताव पर विपक्षी पार्टियों के तमाम नेताओं ने भी हामी भरने में देर नहीं लगाई। सोलहवीं लोकसभा के अंतिम सत्र खत्म होने से एक दिन पहले सेंट्रल हॉल में बायीं ओर सामने की तरफ वाजपेयी का बड़ा तैल चित्र देश के प्रसिद्ध स्वतंत्रता सेनानी लाला लाजपत राय की बगल में लगाया गया है।

सेंट्रल हॉल में महात्मा गांधी, पंडित नेहरू, सरदार पटेल, बाबा साहेब अंबेडकर, सुभाष चंद्र बोस, बाल गंगाधर तिलक, लाल बहादुर शास्त्री, इंदिरा गांधी, राजीव गांधी से लेकर वीर सावरकर जैसी शख्सियतों की तस्वीरें लगी हुई हैं।

सेंट्रल हॉल में तस्वीरें लगाने के लिए अब ज्यादा जगह नहीं है और इसीलिए कई सालों पहले संसद भवन परिसर में मूर्ति या तस्वीर लगाने का फैसला करने के लिए स्पीकर की अध्यक्षता में सभी प्रमुख दलों के नेताओं की एक संसदीय समिति बनाई गई। यह समिति ही तस्वीर लगाने से लेकर किसी तरह के बदलाव पर मुहर लगाती है।

वाजपेयी की तस्वीर लगाने का प्रस्ताव आने पर इस समिति ने पूर्व पीएम के योगदानों का स्मरण करने के लिए इसकी मंजूरी दी। लोकसभा अध्यक्ष सुमित्रा महाजन ने सोमवार को सदन में सभी सांसदों को इसकी सूचना देते हुए कार्यक्रम में शामिल होने का न्यौता भी दिया।

Posted By: Bhupendra Singh

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप