मुंबई, प्रेट्र। शिवसेना के वरिष्ठ नेता और महाराष्ट्र के पूर्व मुख्यमंत्री मनोहर जोशी ने कहा है कि भाजपा और शिवसेना निकट भविष्य में एक साथ आ सकते हैं। पार्टी अध्यक्ष उद्धव ठाकरे सही समय पर इस पर फैसला करेंगे।

उन्होंने कहा कि छोटे मुद्दों पर लड़ने की जगह बेहतर है कि कुछ बातों को बर्दाश्त किया जाए। जिन मुद्दों को आप दृढ़ता के साथ महसूस करते हैं, उसे साझा करना अच्छा है। अगर दोनों दल साथ में काम करते हैं तो यह दोनों के लिए बेहतर होगा। जोशी ने कहा कि ऐसा नहीं है कि शिवसेना अब कभी भी भाजपा के साथ नहीं जाएगी। उद्धव ठाकरे सही समय पर सही निर्णय लेंगे।

शरद पवार के बाद उद्धव से मिले  खडसे, कहा-पार्टी से नाराज नहीं

राकांपा (NCP) प्रमुख शरद पवार से मुलाकात के बाद पार्टी छोड़ने जैसी अटकलों के बीच भाजपा के वरिष्ठ नेता एकनाथ खडसे ने मंगलवार को कहा कि वह अपनी पार्टी से नाराज नहीं थे। उन्होंने पार्टी छोड़ने का भी कोई फैसला नहीं लिया है। इससे तीन दिन पहले खडसे ने पार्टी नेतृत्व को परोक्ष चेतावनी देते हुए कहा था कि अगर उनका अपमान जारी रहा, तो वह अन्य विकल्पों की तलाश करेंगे।

मंगलवार को खडसे ने विधान भवन में महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे से मुलाकात की। सोमवार को वह शरद पवार से मिलने दिल्ली भी गए थे। हालांकि, दो दिनों में हुई इन मुलाकातों के बाद खडसे ने कहा कि इनके पीछे किसी तरह का राजनीतिक उद्देश्य नहीं है।

उद्धव के साथ करीब 40 मिनट की भेंट के बाद पत्रकारों से बात करते हुए खडसे ने कहा कि मैं अपने गृह जिले जलगांव में 6,500 करोड़ रुपये की दो लंबित सिंचाई परियोजनाओं पर बातचीत के लिए पवार से मिला था। इन्हीं मुद्दों पर आगे की बातचीत के लिए मैं आज उद्धव ठाकरे से मिला।

खडसे ने बताया कि मैंने ठाकरे से औरंगाबाद में दिवंगत भाजपा नेता गोपीनाथ मुंडे की याद में एक स्मारक बनवाने का भी निवेदन किया। उन्होंने कहा कि जब मैं मंत्री था, तो इसके लिए पशुपालन और डेयरी विकास विभाग से संबंधित एक प्लॉट को मंजूरी दी थी। लेकिन, मेरे मंत्रालय छोड़ने के बाद परियोजना आगे नहीं बढ़ सकी। खडसे ने बताया कि ठाकरे ने कहा है कि वह मुंडे की जयंती के मौके पर 12 दिसंबर को स्मारक की घोषणा करेंगे।

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस