नई दिल्ली, एजेंसी। भारत की पूर्व विदेश मंत्री और भारतीय जनता पार्टी की कद्दावर नेता सुषमा स्वराज का मंगलवार की देर रात दिल का दौरा पड़ने से निधन हो गया। स्वराज 67 वर्ष की थीं। उनके निधन से पूरा देश आहत है। देश के प्रधानमंत्री से लेकर आम लोगों तक सबकी आंखें नम हैं। देश और दुनिया के बड़े नेताओं ने उनके निधन पर शोक जताया हैं। 

पूर्व विदेश मंत्री का कद जितना बड़ा था उतना ही उनका दिल बड़ा था। वे देश के लोगों के साथ तो हमेशा खड़ी ही रही बल्कि पड़ोसी देश यानी पाकिस्तान के लिए भी उन्होंने अपना बड़प्पन दिखाया। यह बात 2014 की है, जब तत्कालीन भारतीय विदेश मंत्री सुषमा स्वराज, पाकिस्तान की दुख की घड़ी में साथ खड़ी हो गई। यहां तक की उन्होंने सांसदों के लिए रखा गया डिनर भी कैंसिल कर दिया। 

बता दें कि तब पाकिस्तान के पेशावर में एक स्कूल पर आतंकी हमला किया गया था। इसमें कम से कम 160 लोगों की मौत हो गई थी, जिसमें ज्यादातर बच्चे मारे गए थे। स्वराज ने ट्वीट किया था, 'पाकिस्तान में मासूम बच्चों के नरसंहार को देखते हुए, मेरे द्वारा MPs के लिए आयोजित रात्रि भोजन को रद्द कर दिया गया है।'

यह सुषमा स्वराज का बड़ा दिल नहीं तो और क्या है, जब पाकिस्तान जैसे देश, जिससे हमेशा से ही हमारे रिश्ते तनावपूर्ण रहे हो और कोई भारत का बड़ा नेता उनके लिए अपने डिनर को त्याग दे। 

मंगलवार देर रात को हुई क्षति को लेकर हर कोई गम में हैं। वहीं, अब बता दें कि सुषमा स्वराज पंचतत्व में विलीन हो गई हैं। सुषमा स्वराज को लोधी रोड स्थित शवदाह गृह पर पूरे राजकीय सम्मान के साथ अंतिम विदाई दी गई। बेटी बांसुरी ने सुषमा स्वराज को मुखाग्नि दी। सुषमा स्वराज को अंतिम विदाई देने के लिए पीएम मोदी, लालकृष्ण आडवाणी, अमित शाह, राजनाथ सिंह समेत देश-दुनिया के कई प्रमुख नेता मौजूद रहे।

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप

Posted By: Nitin Arora

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप