नई दिल्‍ली, एएनआइ। राष्ट्रपित रामनाथ कोविंद के अभिभाषण पर लोकसभा के बाद राज्‍यसभा में धन्यवाद प्रस्ताव पर चर्चा का जवाब देते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कांग्रेस पर जमकर हमला किया। लेकिन इस दौरान पीएम मोदी से एक तथ्‍यात्‍मक चूक हो गई, जिसे कांग्रेस सांसद एके एंटनी ने याद दिलाया। इधर तृणमूल कांग्रेस ने पीएम मोदी के धन्यवाद प्रस्ताव पर चर्चा को सिर्फ भाषण करार दिया।

एंटनी ने कहा कि मैं बता दूं कि पीएम मोदी द्वारा अभी कहा गया कि 'वन रैंक वन पेंशन' का निर्णय उनकी सरकार ने लिया है, जो गलत है। इसे लागू करने का फैसला मनमोहन सरकार की अगुवाई वाली यूपीए सरकार के दौरान लिया गया था। तत्‍कालीन वित्‍त मंत्री पी चिदंबरम ने बजट में इसकी घोषणा की थी कि हमारी सरकार लंबे समय से अटके हुए इस बिल पर सहमति दे रही है और इसे 1.4.2014 से लागू किया जाएगा। इसके बाद मैंने तीनों सशस्त्र बलों और सचिवों के उपाध्यक्षों के साथ बैठक की थी।

गौरतलब है कि कांग्रेस पर निशाना साधते हुए पीएम मोदी ने राज्‍यसभा में कहा कि बेनामी संपत्ति का कानून 28 साल पहले पारित हो गया था, लेकिन उसे अधिसूचित नहीं किया गया था। हमारी सरकार के कार्यकाल में 3500 करोड़ रुपये की बेनामी संपत्ति जब्‍त की है। कई नियम बदले हैं। वन रैंक वन पेंशन कानून लागू किया। जीएसटी के लिए मध्‍यरात्रि को सेशन बुलाया गया, जिसका कांग्रेस ने बहिष्‍कार किया गया।

तृणमूल कांग्रेस के सांसदों ने किया वॉकआउट

टीएमसी सांसद डेरेक ओ ब्रायन ने कहा कि हम इंतजार कर रहे थे कि विपक्ष द्वारा उठाए गए मुद्दों पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी कुछ गंभीर प्रतिक्रिया देंगे, लेकिन उन्होंने कुछ नहीं कहा। वह सिर्फ राज्‍यसभा में भाषण ही देते रहे, कोई प्रतिक्रिया नहीं थी, कोई विजन नहीं था। इसलिए प्रधानमंत्री ने जब 15 मिनट पर कोई काम की बात नहीं की, तो टीएमसी के सांसदों ने सदन से वॉकआउट कर दिया। हालांकि तब भी पीएम मोदी अपनी बात कह रहे थे।

Posted By: Tilak Raj