जागरण ब्यूरो, नई दिल्ली। कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी ने कोरोना का प्रसार रोकने के लिए लगाए गए लॉकडाउन के बीच देश की मौजूदा स्थितियों पर पैनी नजर रखने के लिए पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह की अगुआई में एक 11 सदस्यीय कमेटी का गठन किया है। इसमें कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी, केंद्रीय मंत्री पी चिदंबरम, केसी वेणुगोपाल आदि चेहरों को भी प्रमुखता से रखा गया है।

कांग्रेस अध्यक्ष टीम के साथ कोरोना से जुड़े सभी मुद्दों को लेकर चर्चा करेंगी

कांग्रेस अध्यक्ष अब नियमित रूप से इस टीम के साथ कोरोना से जुड़े सभी मुद्दों को लेकर चर्चा करेंगी। साथ ही आगे की रणनीति भी तय करेंगी। इस टीम में मनीष तिवारी, जयराम रमेश, प्रवीण चक्रवर्ती, गौरव वल्लभ, सुप्रिया श्रीनेत, रोहन गुप्ता को भी रखा गया है। वहीं इस कमेटी का संयोजक रणदीप सिंह सुरजेवाला को बनाया गया है।

राहुल ने कहा था- राजनीतिक दलों को महामारी से लड़ने के लिए एक साथ काम करने की जरूरत

कांग्रेस महासचिव केसी वेणुगोपाल ने एक बयान में कहा कि पार्टी के विचारों को तैयार करने के लिए इस कमेटी की रोज वर्चुअल बैठक होगी। इससे पहले राहुल गांधी ने अपनी प्रेस कांफ्रेंस में कहा था कि राजनीतिक दलों को महामारी से लड़ने के लिए एक साथ काम करने की जरूरत है।

कोरोना महामारी के खिलाफ जंग में सफलता के संकेत

कोरोना महामारी के खिलाफ जंग में बेहतर सफलता के संकेत मिले हैं। देश के 23 राज्यों के 47 जिलों ने इस महामारी को मात दे दी है। इन जिलों में पिछले 14 दिनों से एक भी नया केस सामने नहीं आया है। यही नहीं, इनमें दो जिले तो ऐसे हैं जहां पिछले चार हफ्ते में कोई नया मामला सामने नहीं आया है, यानी इन्हें कोरोना मुक्त कहा जा सकता है। वैसे कोरोना को मात देने वाले जिलों की संख्या 50 थी, नए केस मिलने के बाद बिहार का पटना, हरियाणा का पानीपत और पश्चिम बंगाल का नादिया जिला इस सूची से बाहर हो गए।

22 राज्यों के 25 नए जिले कोरोना को मात देने में सफल रहे 

कोरोना के खिलाफ लड़ाई में मिल रही सफलता का उल्लेख करते हुए स्वास्थ्य मंत्रालय में संयुक्त सचिव लव अग्रवाल ने शनिवार को कहा कि पिछले पांच दिनों में 22 राज्यों के 25 नए जिले कोरोना को मात देने में सफल रहे हैं। इन जिलों में बिहार के लखीसराय, गोपालगंज व भागलपुर, पंजाब का होशियारपुर और हरियाणा के रोहतक व चरखी दादरी जिले शामिल हैं। जबकि, पुडुचेरी के माहे और कर्नाटक के गुंटूर जिले में पिछले 28 दिनों में एक भी कोरोना पॉजिटिव केस नहीं मिला है। इस तरह से ये दोनों जिले ऑरेंज जोन से निकलकर ग्रीन जोन में आ गए हैं। लव अग्रवाल ने कहा कि कोरोना को हराने वाले जिलों को भी सतर्क रहने की जरूरत है। ऐसा नहीं होने पर वहां कभी भी कोरोना के नए मरीज सामने आ सकते हैं। जैसा कि पटना, पानीपत और नादिया के मामले में हुआ है।

Posted By: Bhupendra Singh

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस