रायपुर (अनुज सक्सेना)। कांग्रेस के राष्ट्रीय अध्यक्ष राहुल गांधी के ट्रंप कार्ड ने छत्तीसगढ़ में भाजपा को फंसा दिया है और कांग्रेस में उत्साह भरने का काम किया है। प्रदेश की भाजपा सरकार अब पेट्रोल-डीजल का दाम कम करने के लिए राजस्थान सरकार की तरह वैट कम करेगी, तो उसका श्रेय कांग्रेस ले जाएगी। अगर, वैट कम नहीं करेगी तो छोटे व्यापारियों और जनता की नाराजगी बनी रहेगी।

दरअसल, राहुल गांधी ने गत 10 अगस्त को पीसीसी के नए कार्यालय राजीव भवन के लोकार्पण कार्यक्रम में बार-बार छोटे व्यापारियों के हित की बात कही थी। राहुल का वह ट्रंप कार्ड पेट्रोलियम पदार्थों की बढ़ती कीमत के खिलाफ बंद में काम आया। व्यापारियों की सबसे बड़ी संस्था चेम्बर ऑफ कॉमर्स तीन साल से कांग्रेस को ठेंगा दिखाती रही, लेकिन इस बार छोटे व्यापारियों और ट्रांसपोर्टरों के दबाव ने भाजपा के प्रभाव वाले चेम्बर पदाधिकारियों को भी कांग्रेस के समर्थन के लिए मजबूर कर दिया। कांग्रेस नेता बंद की सफलता को देखकर इस बात का दावा कर रहे हैं कि छोटा व्यापारी वर्ग अब कांग्रेस के समर्थन में आ चुका है।

कांग्रेस नए आंदोलनों- कार्यक्रमों के लिए उत्साहित

- किसान अधिकार यात्रा- हर जिले में किसानों के बोनस, समर्थन मूल्य, खाद, मुफ्त बिजली और पानी के लिए यात्रा निकाली जाएगी।

- संकल्प यात्रा- प्रदेश में भाजपा को हटाकर कांग्रेस की सरकार बनाने के लिए बस्तर छोड़कर बाकी चार संभाग में यात्रा निकलेगी।

- जंगल सत्याग्रह- आदिवासियों के अधिकार के लिए आदिवासी बहुल 85 ब्लॉक में यह यात्रा निकाली जा रही, एक चरण हो चुका है।

- चौपाल- राफेल घोटाला समेत केंद्र और राज्य की भाजपा सरकार के अन्य घोटाले व योजनाओं पर चर्चा के लिए चौपाल लगाया जाएगा।

छत्तीसगढ़ के नेता-प्रतिपक्ष टीएस सिंहदेव ने कहा, 'भाजपा सरकार पेट्रोल-डीजल और रसोई गैस के मुद्दे पर पूरी तरह से घिर गई है। कांग्रेस इस मुद्दे को ऐसे नहीं छोड़ेगी। विधानसभा के विशेष सत्र में ऐसे कई और मुद्दे उठाए जाएंगे, जिस पर जवाब देना भाजपा सरकार के मुख्यमंत्री और मंत्रियों के लिए आसान नहीं होगा।'

Posted By: Nancy Bajpai