नई दिल्ली, एजेंसी। भारतीय जनता पार्टी (BJP) ने सोमवार को कांग्रेस पर सरदार वल्लभभाई पटेल को निशाना बनाने वाली टिप्पणी करने को पाप करार दिया। पार्टी के मुताबिक, 16 अक्टूबर को कांग्रेस कार्य समिति (सीडब्ल्यूसी) की बैठक के दौरान पटेल को अपमानित किया गया। एक मीडिया रिपोर्ट का हवाला देते हुए, भाजपा प्रवक्ता संबित पात्रा ने सवाल किया कि क्या कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी और पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी तारिक हमीद कर्रा को फटकार लगाएंगे, जिन्होंने पटेल पर टिप्पणी की थी।

पात्रा ने मीडिया से बातचीत में कहा कि पूरे प्रकरण से कुछ सवाल उठते हैं। उन्होंने बताया, 'आज अखबारों में छपा है कि 2 दिन पहले हुई CWC की बैठक में कश्मीर को लेकर कुछ सवाल उठे थे। बैठक में कश्मीर को लेकर भ्रम का माहौल बनाया गया। तारिक हमीद कर्रा ने कहा कि भारत के पहले प्रधान मंत्री जवाहरलाल नेहरू थे जिन्होंने जम्मू और कश्मीर को भारत के साथ एकीकृत किया, जबकि सरदार पटेल ने ऐसा न होने देने की पूरी कोशिश की। ये भी कहा गया कि इस पूरे प्रयोजन में सरदार पटेल जिन्ना से मिले हुए थे और जिन्ना के साथ मिलकर कश्मीर को हिंदुस्तान से अलग रखने की कोशिश पटेल कर रहे थे।'

पात्रा ने सोनिया और राहुल गांधी से जानना चाहा कि क्या उन्होंने सरदार पटेल के अपमान पर आपत्ति जताई? सीडब्ल्यूसी में कर्रा के व्यवहार को भारी चाटुकारिता बताते हुए, भाजपा नेता ने आगे कहा, 'वह खुद जम्मू-कश्मीर से आते हैं और उनका एकमात्र उद्देश्य राहुल गांधी को अगले कांग्रेस अध्यक्ष के रूप में स्थापित करना था। इसलिए उन्होंने गांधी परिवार का महिमामंडन किया। एक परिवार ने सब कुछ किया और दूसरों ने बिल्कुल भी कुछ नहीं किया, कांग्रेस की ऐसी मानसिकता कैसे हो सकती है?

पीपुल्स डेमोक्रेटिक पार्टी (पीडीपी) के एक पूर्व नेता, कर्रा 2017 में कांग्रेस में शामिल हुए। श्रीनगर लोकसभा क्षेत्र के एक पूर्व सांसद, सीडब्ल्यूसी के सदस्य के रूप में नामित होने वाले घाटी के पहले राजनेता हैं।

पात्रा ने आगे कहा कि आज ये बात स्पष्ट हो गई है कि अपने परिवार की विरासत को ऊपर रखने के लिए नेहरू-गांधी राजवंश को ऊपर रखने के लिए, चाहे सुभाष चंद्र बोस हो, वीर सावरकर हो, सरदार पटेल हो किसी को भी अपमानित करना हो, किसी के नाम पर भ्रम फैलाना हो कांग्रेस पार्टी सब कर सकती है।

Edited By: Nitin Arora