जागरण ब्यूरो, नई दिल्ली। भाजपा से राजनीतिक लड़ाई में विचारधारा की मजबूती की जरूरत को देखते हुए कांग्रेस ने अब बच्चों के बीच अपनी पहुंच बढ़ाने का फैसला किया है। इसी रणनीति के तहत पार्टी ने शनिवार को आधिकारिक रूप से जवाहर बाल मंच के रूप में पार्टी का एक आधिकारिक विभाग गठित कर दिया। छात्रों और युवाओं के बीच काम करने वाले केरल के युवा नेता डा. जीवी हरि को इस नवगठित जवाहर बाल मंच का अध्यक्ष बनाया गया है।

17 साल के बच्चों व किशोरों के बीच रहेगी मंच की सक्रियता

कांग्रेस के संगठन महासचिव केसी वेणुगोपाल ने आधिकारिक बयान जारी कर हरि की नियुक्ति के साथ बाल मंच के गठन की घोषणा की। जवाहर बाल मंच के जरिये कांग्रेस सात से 17 साल के बच्चों व किशोरों के बीच सक्रिय पहुंच बनाते हुए अपनी वैचारिक धारा से जोड़ने का प्रयास करेगी। पार्टी नेतृत्व बाल मंच के गठन पर लंबे समय से मंथन कर रहा था और इस संदर्भ में विशेषज्ञों से बातचीत के अलावा जमीनी स्तर से फीडबैक भी मंगाया गया।

राज्यों में भी इसका सांगठनिक ढांचा तैयार करेगी कांग्रेस

कांग्रेस को अब लगने लगा है कि भाजपा को राजनीतिक चुनौती केवल चुनावी मैदान में ही नहीं देनी होगी, बल्कि विचाराधारा के स्तर पर भी देश में मध्यम मार्ग की वैचारिक धारा को मजबूत बनाना होगा। इसके लिए जरूरी है कि बच्चों के बीच शुरू से ही देश की बहुलवादी संस्कृति और सबको साथ लेकर चलने की सोच को उनके चिंतन में शामिल करने का प्रयास किया जाए। राष्ट्रीय स्तर पर जवाहर बाल मंच के गठन के बाद पार्टी अब राज्यों में इसका सांगठनिक ढांचा तैयार करेगी। इसके बाद जिला और ब्लाक स्तर पर बाल मंच के ढांचे को स्वरूप देने की पार्टी की योजना है।

यह भी पढ़ें: PM Modi UNGA Speech: पीएम मोदी के संबोधन की ये हैं दस बड़ी बातें, चाणक्य से लेकर रवींद्र नाथ टैगोर को किया याद