नई दिल्ली, जागरण ब्यूरो। कांग्रेस ने अपने पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी के फर्जी वीडियो के सहारे उनके खिलाफ झूठा प्रचार करने के मामले में कांग्रेस ने छत्तीसगढ़ के बिलासपुर में भाजपा सांसद राज्यव‌र्द्धन राठौर, सुब्रत पाठक और डा भोला सिंह समेत कुछ अन्य के खिलाफ एफआईआर दर्ज कराए जाने की घोषणा की है। जबकि उत्तरप्रदेश, दिल्ली, महाराष्ट्र, मध्यप्रदेश और झारखंड में शिकायत दर्ज कराई है।

कांग्रेस का आरोप-

कांग्रेस का आरोप है कि इन भाजपा नेताओं ने फर्जी वीडियो के जरिए झूठ फैलाने के साथ धार्मिक भावनाएं भड़का कर सांप्रदायिक सौहार्द बिगाड़ने की कोशिश की है। कांग्रेस के मीडिया व प्रचार विभाग के प्रमुख पवन खेड़ा और सोशल मीडिया विभाग की प्रमुख सुप्रिया श्रीनेत ने पत्रकारों से बातचीत करते हुए कहा कि कांग्रेस के संचार महासचिव जयराम रमेश ने भाजपा अध्यक्ष जेपी नड्डा को पत्र लिखकर फर्जी वीडियो और झूठे प्रचार के लिए 24 घंटे में माफी मांगने के लिए कहा था। हम रविवार रात तक कार्रवाई की प्रतीक्षा करते रहे लेकिन जब भाजपा ने कोई एक्शन नहीं लिया तो कांग्रेस की ओर से छह राज्यों में शिकायत दर्ज कराई गई है।

छत्तीसगढ़ के बिलासपुर में राज्यव‌र्द्धन राठौर, सुब्रत पाठक और अन्य भाजपा नेताओं के खिलाफ सोमवार को एफआईआर दर्ज कराया गया। कांग्रेस के इस एफआईआर में उत्तरप्रदेश के विधायक कमलेश सैनी का नाम भी शामिल है। सुप्रिया श्रीनेत ने कहा कि सांसद और केंद्रीय मंत्री रह चुके भाजपा के नेता फेक न्यूज के सहारे देश में नफरत की आग को क्यों भड़का रहे हैं इस सवाल का जवाब पीएम मोदी को देना चाहिए। श्रीनेत ने कहा कि राहुल गांधी के वायनाड स्थित कार्यालय पर एसएफआई की तोड़फोड़ पर उनकी प्रतिक्रिया को जी न्यूज चैनल ने उदयपुर की बर्बरता से जोड़कर कांग्रेस नेता की छवि खराब करने की कोशिश की।

चैनल ने राहुल गांधी और कांग्रेस से अगले दिन माफी तो मांग ली लेकिन भाजपा नेताओं ने अपना सोशल मीडिया पोस्ट नहीं हटाया। वहीं पवन खेड़ा ने उदयपुर बर्बर कांड के आरोप मोहम्मा रियाज के भाजपा से जुड़े होने की खबर के बाद जम्मू-कश्मीर में पकड़े गए लश्कर के एक आतंकी के भाजपा से ¨लक को लेकर भी सत्ताधारी पार्टी पर हमला बोला।उन्होंने कहा कि खुद को राष्ट्रवादी होने का दावा करने वाली भाजपा के लोगों के आतंकी संगठनों से तार जुड़े होने के तमाम उदाहरण हैं। इसमें सतना में आतंकी फंडिग केस में गिरफ्तार ध्रुव सक्सेना, 2019 में सतना में ही गिरफ्तार बलराम सिंह भाजपा के कार्यकर्ता थे। जम्म-कश्मीर में तारिक अहमद मीर भी इस सूची में शामिल है। डीएसपी देवेंद्र सिंह को आतंकवादियों संग हथियारों के साथ रंगे हाथों पकड़ा गया मगर केवल उसे नौकरी से बर्खास्त कर छोड़ दिया गया। खेड़ा ने कहा कि आतंकियों के साथ सामने आ रहे इन जुड़ावों को लेकर भाजपा को देश को जवाब देना होगा। 

Edited By: Ashisha Rajput