जागरण ब्यूरो, नई दिल्ली। कांग्रेस में नये अध्यक्ष को लेकर जारी असमंजस के बीच पार्टी के वरिष्ठ नेता शशि थरूर की युवा नेतृत्व को शीघ्र कमान सौंपने की टिप्पणी के बाद प्रियंका गांधी वाड्रा को नेतृत्व सौंपने की आवाज फिर तेज हो गई है।

नये अध्यक्ष के चुनाव के लिए कांग्रेस कार्यसमिति की अगस्त में बुलाई जा रही बैठक से पूर्व प्रियंका को नेतृत्व सौंपने के मुखर होते सुर इस बात की ओर इशारा कर रहे हैं कि गांधी परिवार से बाहर का नेतृत्व ढूंढ़ना कांग्रेस के लिए बेहद चुनौतीपूर्ण है। पंजाब के मुख्यमंत्री और पार्टी के वरिष्ठ नेता कैप्टन अमरिंदर सिंह ने भी प्रियंका को कांग्रेस की कमान सौंपने की थरूर की राय का समर्थन किया है।

राहुल गांधी के इस्तीफा देने के दो महीने बीत जाने के बाद भी नये अध्यक्ष की तलाश अब तक पूरी नहीं होने से कांग्रेस में बढ़ रही बेचैनी को खुलकर जाहिर करते हुए शशि थरूर ने रविवार को युवा नेतृत्व के हाथों में पार्टी की बागडोर तत्काल सौंपने की वकालत की थी।

थरूर ने राहुल के पद छोड़ने के बाद कांग्रेस में राजनीतिक निर्णयों की दिशा तय नहीं हो पाने की ओर साफ इशारा करते हुए कहा था कि नया युवा नेतृत्व पार्टी को चुनौतियों से उबारते हुए उम्मीद का जोश भरेगा। थरूर ने सोमवार को प्रियंका गांधी को अध्यक्ष बनाने की खुली वकालत कर युवा नेतृत्व के लिए पार्टीजनों की पहली पसंद का संदेश देने का भी प्रयास किया।

राहुल गांधी के इस्तीफे के बाद सबसे पहले कांग्रेस का नेतृत्व युवा हाथों में सौंपने की वकालत करने वाले कैप्टन अमरिंदर सिंह ने प्रियंका को नेतृत्व सौंपने को लेकर उठ रही आवाजों के बारे में पूछे जाने पर सकारात्मक प्रतिक्रिया दी। कैप्टन ने कहा कि पार्टी का नेतृत्व करने के लिए प्रियंका एक सही विकल्प होंगी। लेकिन इस पर अंतिम फैसला कांग्रेस कार्यसमिति ही करेगी क्योंकि वही इसके लिए अधिकृत है।

प्रियंका को अध्यक्ष पद का उम्मीदवार बनाने के सवाल पर कैप्टन ने कहा कि इसका फैसला निर्वतमान कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी को लेना है। मगर जहां तक प्रियंका के नाम का सवाल है तो उन्हें विश्वास है कि पार्टी में उन्हें पूरा समर्थन मिलेगा। हालांकि गांधी परिवार से बाहर का अध्यक्ष बनाने के राहुल गांधी के रूख को देखते हुए प्रियंका को कमान सौंपने की पैरोकारी को सिरे चढ़ाना अब भी बेहद कठिन नजर आ रहा है।

राहुल के इस्तीफे के बाद प्रियंका को कमान सौंपने के उत्साह में कांग्रेस की निर्णय प्रक्रिया ठप होने के थरूर के बयानों को पार्टी ने सहजता से नहीं लिया है। पार्टी के संगठन महासचिव केसी वेणुगोपाल ने युवा चेहरे के तौर पर प्रियंका को पसंद बताने के थरूर के बयान पर कांग्रेसजन के रुप में उनकी भावना करार दिया मगर पार्टी में अनिर्णय के हालत की उनकी टिप्पणी खारिज कर दी।

वेणुगोपाल ने कहा कि जब राहुल गांधी ने इस्तीफा दिया था तब स्पष्ट किया था कि उत्तराधिकारी नियुक्त होने तक वे अध्यक्ष के अपने दायित्व का संचालन करते रहेंगे और यह जिम्मेदारी वे बखूबी निभा रहे हैं। श्रीनिवास बी वी को सोमवार को युवा कांग्रेस का अंतरिम अध्यक्ष नियुक्त कर राहुल गांधी ने इसका संकेत भी दिया।

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप

Posted By: Bhupendra Singh

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप