नई दिल्ली, एएनआई। महाराष्ट्र में जारी राजनीतिक संकट के बीच शिवसेना सभी बागी विधायकों के परिवारों के लिए केंद्र सरकार ने सीआरपीएफ सुरक्षा देने का ऐलान किया है। अब परिवारों की सुरक्षा में सीआरपीएफ जवान तैनात होंगे। 15 बागी विधायकों के घर के बाहर शाम तक सीआरपीएफ के जवान तैनात हो जाएंगे। रमेश बोर्नारे, मंगेश कुदलकर, संजय शिरसत, लताबाई सोनवणे, प्रकाश सुर्वे, सदानंद सरनावनकर, योगेश दादा कदम, प्रताप सरनाइक, यामिनी जाधव, प्रदीप जायसवाल, संजय राठौड़, दादाजी भूसे, दिलीप लांडे, बालाजी कल्याणर, संदीपन भुमारे को सीआरपीएफ की सुरक्षा मुहैया कराई गई है।

इससे पहले बागियों ने आरोप लगाया था कि उनके 38 विधायकों के परिवारों की सुरक्षा हटा ली गई है। बाद में राज्य के गृह मंत्री दिलीप वलसे पाटिल ने इसे तथ्यहीन बताया था। बागियों का आरोप था कि सुरक्षा वापस लेकर उनका मूसे वाला करने का प्लान है।

ऐसे में अब केंद्र की ओर से बागी विधायकों को केंद्र की सुरक्षा दी की गई है। बता दें कि शिवसेना में टूट के बीच एकनाथ शिंदे और अन्य बागी विधायकों के दफ्तर के बाहर भारी संख्या में पुलिस बल को तैनात किया गया है। शनिवार को कल्याण में एकनाथ शिंदे के दफ्तर के बाहर जबकि उल्हासनगर में एकनाथ शिंदे के बेटे और सांसद श्रीकांत शिंदे के दफ्तर में कल तोड़फोड़ हुई थी। उल्हासनगर श्रीकांत शिंदे के दफ्तर के बाहर भी भारी सुरक्षा बल तैनात किया गया है।

मुंबई, नागपुर समेत कई शहरों में शिंदे का व विरोध

महाराष्ट्र में सियासी संकट के बीच रविवार को शिवसैनिक सड़क पर उतरकर एकनाथ शिंदे के खिलाफ विरोध कर रहे हैं। मुंबई में सामना ऑफिस के बाहर शिवसैनिक एकत्र हैं। नागपुर और नासिक में बागी विधायकों के खिलाफ शिवसैनिक सड़कों पर उतरे हैं। भगवा झंडों के साथ रैलियां निकाली गई हैं और शिंदे ग्रुप के विरोध में जोरदार नारेबाजी की जा रही है।

लाखों शिवसैनिक हमारे एक इशारे का इंतजार कर रहे- संजय राउत

इससे पहले शिवसेना नेता संजय राउत ने एक बार फिर से बागी विधायकों पर निशाना साधा है। उन्होंने कहा, लोग उद्धव ठाकरे के नेतृत्व वाली शिवसेना पर भरोसा रखेंगे। कल उन्होंने कहा कि जो लोग बाहर गए हैं वो शिवसेना नाम का इस्तेमाल ना करें और अपने बाप के नाम का इस्तेमाल करें और वोट मांगें। राउत ने आगे कहा, उन्हें जो करना है करने दो, मुंबई तो आना पड़ेगा ना। वहां बैठकर हमें क्या सलाह दे रहे हैं? लाखों शिवसैनिक हमारे एक इशारे का इंतजार कर रहे हैं' लेकिन हमने अभी भी संयम रखा है।

Edited By: Sanjeev Tiwari