जेएनएन, नई दिल्ली। नागरिकता संशोधन कानून (सीएए) के विरोध में शनिवार को जहां दिल्ली सहित अन्य राज्यों में आमतौर पर शांति रही वहीं उत्तर प्रदेश में राज्य सरकार के कड़े रुख के बाद भी कई जिलों में हिंसक घटनाएं हुई। राज्यव्यापी बंद के आह्वान पर बिहार में भी हिंसा हुई। पटना के फुलवारीशरीफ में विरोध प्रदर्शन के दौरान दो पक्ष आपस में भिड़ गए जिसमें 12 लोग घायल हो गए जिसमें दो की हालत गंभीर है।

यूपी: रामपुर में आगजनी, कानपुर में उपद्रवियों का पुलिस चौकी पर हमला, दारोगा घायल

उत्तर प्रदेश में रामपुर सुलग उठा। उपद्रवियों ने वाहनों में आगजनी के साथ पुलिस को निशाना बनाया। पथराव और फायरिंग की। कानपुर में शुक्रवार को भड़की हिंसा में दो की मौत के बाद शनिवार को दोपहर बाद उपद्रवियों ने यतीमखाना पुलिस चौकी पर हमला बोल दिया। पेट्रोल व देसी बम फेंके। फायरिंग की और पथराव भी किया। उपद्रवियों ने यतीमखाना चौकी के बाहर खड़ी दो बाइक व दो कारें फूंक दीं। एक सिपाही के कंधे में गोली लगी है, जबकि पथराव में एक दारोगा भी घायल है।

विधायक अभिताभ वाजपेयी व पूर्व विधायक कमलेश दिवाकर गिरफ्तार

एडीजी प्रेमप्रकाश ने बताया कि भीड़ को भड़काने और बलवे में शामिल होने के आरोप में आर्य नगर से विधायक अभिताभ वाजपेयी व पूर्व विधायक कमलेश दिवाकर को गिरफ्तार किया गया है। वहीं, शुक्रवार को गोली लगने से घायल 13 लोगों में से दो की हालत गंभीर बनी हुई है। फीरोजाबाद में शुक्रवार को हुए उपद्रव के दौरान फायरिंग में घायल एक और युवक की मौत हो गई। मेरठ में हिंसा की चपेट में आकर अस्पताल में भर्ती एक व्यक्ति की मौत हो गई। मेरठ में अब तक पांच की मौत हो चुकी है। बिजनौर में दो और मुजफ्फरनगर में एक की मौत हुई है।

सोशल मीडिया पर 14101 पोस्टों के खिलाफ कार्रवाई, हिंसा के दौरान 15 की मौत

सोशल मीडिया पर 14101 पोस्टों के खिलाफ कार्रवाई करते हुए कुल 63 मुकदमें दर्ज कराए गए हैं और पुलिस ने 102 आरोपितों को गिरफ्तार किया है। इसके अलावा 442 आरोपितों को पाबंद कराया गया है। डीजीपी मुख्यालय के अनुसार, हिंसा के दौरान अब तक आठ जिलों में 15 लोगों की मौत हुई है। हालांकि दो अन्य व्यक्तियों के मरने की सूचना भी फैली, लेकिन इसकी आधिकारिक पुष्टि नहीं हो सकी है।

फायरिंग की घटनाओं में 124 एफआइआर दर्ज, 705 आरोपित गिरफ्तार

आइजी कानून-व्यवस्था प्रवीण कुमार त्रिपाठी ने बताया कि 10 दिसंबर से अब तक विभिन्न जिलों में विधि विरुद्ध प्रदर्शन, आगजनी, तोड़फोड़ व पुलिस पर फायरिंग की घटनाओं में 124 एफआइआर दर्ज की गई है। पुलिस ने 705 आरोपितों को गिरफ्तार किया है। पुलिस ने सैकड़ों आरोपितों को नामजद करते हुए हजारों अज्ञात के खिलाफ मुकदमे दर्ज किए हैं। वीडियो फुटेज के जरिए उपद्रवियों को चिह्नित कर उनकी गिरफ्तारी के प्रयास लगातार किए जा रहे हैं।

उपद्रव के दौरान 57 पुलिसकर्मियों को लगी गोली

पुलिस ने 4500 से अधिक लोगों के खिलाफ निरोधात्मक कार्रवाई भी की है। उपद्रव के दौरान अब तक 263 पुलिसकर्मी घायल हैं, जिनमें 57 पुलिसकर्मियों को गोली लगी है। जिन-जिन स्थानों पर हिंसा व उपद्रव हुआ, वहां से पुलिस ने गैर-प्रतिबंधित बोर के 405 खोखे व कई तमंचे भी बरामद किए हैं।

बिहार: राजद के बिहार बंद के दौरान जनजीवन अस्त-व्यस्त

वहीं सीएए के विरोध में राजद के बिहार बंद के दौरान राज्य के सभी शहरी इलाकों में जनजीवन अस्त-व्यस्त रहा। एहतियातन स्कूल-कॉलेज, कार्यालय और बाजार सुबह से बंद रखे गए। जहां खोलने की कोशिश हुई, वहां पहुंचकर बंद समर्थकों ने हंगामा किया। प्रदर्शन के बहाने विभिन्न जिलों में उपद्रव और पथराव की घटनाएं हुईं।

फुलवारीशरीफ में पुलिस पर पत्थर बरसाए गए

सुरक्षा में लगी पुलिस पर भी पत्थर बरसाए गए। राजधानी पटना के फुलवारीशरीफ में दो पक्ष भिड़ गए। देर तक पत्थरबाजी और फायरिंग हुई और छुरे चले। गोली लगने और पत्थरबाजी से दोनों पक्षों के एक दर्जन लोग घायल हो गए। इनमें दो की हालत गंभीर है।

मीडिया कर्मियों पर हमला, सड़कों पर आगजनी, ट्रेनें रोकी गई

हंगामा कर रहे लोगों ने पुलिस और मीडिया कर्मियों पर भी हमला किया। दैनिक जागरण के फोटो पत्रकार का सिर डंडा मारकर फोड़ दिया। आधा दर्जन मीडिया कर्मियों के कैमरे तोड़ दिए गए। टीवी चैनलों के आउटडोर ब्रॉडकास्टिंग वैन (ओबी वैन) के शीशे तोड़े गए। दो पुलिस जवानों को अस्पताल में दाखिल कराया गया है। पूरे पटना और आसपास के जिलों में बंद असरदार रहा। इस दौरान दुकानें बंद कराई गई। सड़कों पर आगजनी की गई और ट्रेनें रोकी गई।

फुलवारीशरीफ में धार्मिक स्थल में घुसकर तोड़फोड़

स्थानीय लोगों और पुलिस के अनुसार, फुलवारीशरीफ में विभिन्न संगठनों के लोग अलग-अलग टुकडि़यों में शहीद चौक से नारेबाजी करते जुलूस की शक्ल में निकले। भीड़ में उपद्रवी और असामाजिक तत्व भी थे। सभी टमटम पड़ाव पर पहुंचने के बाद संगतपर मोहल्ले से आगे बढ़ने पर अड़ गए। उस वक्त पुलिस नहीं थी। जब दूसरे पक्ष के लोगों ने मोहल्ले में घुसने से मना किया तो शरारती तत्व एक धार्मिक स्थल में घुसकर तोड़फोड़ करने लगे। इससे बवाल बढ़ गया। लोगों ने एक युवक को पकड़ लिया और पिटाई करने लगे।

सड़क जाम, प्रदर्शन कर रहे उपद्रवियों पर आंसू गैस के गोले छोड़े गए

दोनों ओर से पथराव होने लगा। इस बीच एक युवक को लोगों ने चाकू घोंप कर घायल कर दिया। देखते ही देखते दोनों तरफ से फायरिंग होने लगी। 50 राउंड से अधिक फायरिंग हुई। एक दर्जन लोगों को गोली लगी। जैसे-तैसे लोग घायलों को नजदीकी अस्पताल में ले गए। घटना के एक घंटे बाद डीएम कुमार रवि और एसएसपी गरिमा मलिक दलबल के साथ मौके पर पहुंचे। उपद्रवियों पर काबू पाने के लिए 250 राउंड से अधिक आंसू गैस के गोले छोड़े गए। उत्तर बिहार के विभिन्न जिलों में भी सड़क जाम, प्रदर्शन और नारेबाजी के साथ आगजनी, तोड़फोड़ और पथराव हुआ। ट्रेनें भी रोकी गई।

मध्य प्रदेश: जबलपुर के चार थाना क्षेत्रों में कर्फ्यू जारी, 35 आरोपित गिरफ्तार

सीएए के विरोध में मध्य प्रदेश के जबलपुर में शुक्रवार को किए गए उग्र प्रदर्शन के बाद शनिवार को हालात सामान्य रहे। हालांकि शहर के चार थाना क्षेत्रों में कर्फ्यू जारी है। शनिवार को कर्फ्यू में कुछ घंटों की ढील दी गई। उपद्रव को लेकर छह मामले दर्ज किए गए हैं। इसमें 35 आरोपितों को गिरफ्तार किया गया है। इसके अलावा 51 नामजद सहित 500 से अधिक अज्ञात के खिलाफ प्रकरण दर्ज किया गया है।

पश्चिम बंगाल: कोलकाता में भाजपा मुख्यालय घेरने की कोशिश

बंगाल में भी विरोध के स्वर उठे। छात्रों ने कोलकाता स्थित भाजपा के प्रदेश मुख्यालय का घेराव करने की कोशिश की। इसमें हजारों वामो, कांग्रेस और तृणमूल कांग्रेस समर्थित छात्र शामिल हुए। दूसरी ओर सीएए के समर्थन में भाजपा समर्थकों ने भी प्रदर्शन किया।

Posted By: Bhupendra Singh

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस