जागरण ब्यूरो, नई दिल्ली। भाजपा ने कांग्रेस और सपा पर हिंदुओं के खिलाफ घृणा फैलाने और घृणा फैलाने वालों को प्रश्रय देने की होड़ लगाने का आरोप लगाया है। भाजपा प्रवक्ता संबित पात्रा ने उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव में सपा और कांग्रेस की ओर से बांटे गए टिकटों और किए गए समर्थन का उल्लेख करते हुए कहा कि हिंदुओं के खिलाफ घृणा फैलाकर, उन्हें डरा-धमकाकर और आपस में बांटकर ये दोनों पार्टियां अपने अपने परिवारों की राजनीति को आगे बढ़ाने की कोशिश कर रही हैं।

संबित पात्रा ने कहा, ऐसा करके दोनों पार्टियां अपने परिवारों की राजनीति को आगे बढ़ाने की कर रहीं कोशिश

उत्तर प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष की उपस्थिति में इत्तेहाद मिल्लत कौंसिल के मौलाना ताकिर रजा खान द्वारा कांग्रेस के समर्थन का हवाला देने पर संबित पात्रा ने कहा कि यह वही मौलाना हैं जो हिंदुओं के लिए हिंदुस्तान में कोई जगह नहीं बचने और देश का पूरा नक्शा बदलने की बात करते हैं। यही नहीं, नागरिकता संशोधन कानून (सीएए) के खिलाफ आंदोलन के समय उन्होंने देश में खून की नदियां बहाने की बात कही थी। पात्रा ने कहा कि यह सिर्फ उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव से पहले नहीं हो रहा है।

इसके पहले कांग्रेस ने बंगाल में हिंदुओं के खिलाफ जहर उगलने वाले अब्बास सिद्दीकी की पार्टी इंडियन सेक्युलर फ्रंट के साथ समझौता किया था। वह केरल में वेलफेयर पार्टी और कर्नाटक में पीएफआइ की राजनीतिक इकाई एसडीपीआइ के साथ गठबंधन कर चुकी है।

पात्रा ने कहा कि हिंदुओं के खिलाफ जहर उगलने वालों के साथ कांग्रेस का पुराना रिश्ता है। संबित पात्रा ने कहा कि हिंदू विरोधियों को साथ लेने में सपा किसी भी तरह कांग्रेस से पीछे नहीं रहना चाहती। उन्होंने कहा कि कैराना में हिंदुओं के पलायन के लिए जिम्मेदार और जेल में बंद नाहिद हसन को सपा ने कैराना से अपना प्रत्याशी बनाया है।

इसी तरह मेरठ से सपा प्रत्याशी रफीक अंसारी और धौलाना से असलम चौधरी भी घृणा फैलाने के लिए प्रसिद्ध हैं। इसी तरह सहारनपुर गुरुद्वारे में हिंसा फैलाने के मास्टरमाइंड मोहर्रम अली पप्पू को भी सपा ने टिकट दिया है। पात्रा ने कहा कि सपा और कांग्रेस के बीच इस होड़ को जनता देख रही है और आगामी चुनावों में इसका माकूल जवाब देगी।

Edited By: Arun Kumar Singh