जागरण ब्यूरो, नई दिल्ली। अमेरिका, कनाडा, आस्ट्रेलिया और इज्रायल समेत 14 देशों के राजदूतों ने भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा से मुलाकात की। मुलाकात का उद्देश्य राजनयिकों को एक राजनीतिक दल के रूप में भाजपा की नीति और कार्यशैली के बारे में जानकारी देना था। ''भाजपा को जाने'' (नो बीजेपी) कार्यक्रम के तहत नड्डा की विदेशी राजनयिकों से यह दूसरी मुलाकात थी। इसके पहले भाजपा के स्थापना दिवस पर छह अप्रैल को नड्डा 13 देशों के राजनयिकों से मिल चुके हैं।

प्रधानमंत्री मोदी की नीतियों और भाजपा के संगठन के बारे में दी जानकारी

राजनयिकों को संबोधित करते हुए जेपी नड्डा ने प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की नीतियों और कार्यक्रमों के बारे में विस्तार से जानकारी दी। इसके साथ ही उन्होंने भाजपा के संगठन, उसके विभिन्न विभागों और उनके क्रियाकलापों की जानकारी दी। बैठक के दौरान राजनयिकों में भाजपा को जानने की उत्सुकता दिखी और उन्होंने कई सवाल किये, जिसका जवाब जेपी नड्डा ने दिया। नड्डा ने बताया कि बैठक का यह दिन दो वजहों से काफी अहम है। एक तो इसी दिन बौद्ध धर्म के प्रणेता महात्मा बुध का जन्म हुआ था और इस अवसर खुद प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी उनके जन्मस्थल लुंबनी में प्रार्थना करने गए हैं।

इसके पहले छह अप्रैल को 13 राजनयिकों से नड्डा ने की थी मुलाकात

दूसरी ओर इसी दिन 2014 में भाजपा पहली बार 282 के सीटों के साथ पूर्ण बहुमत से आम चुनाव में जीत हासिल की थी। बैठक में अमेरिका, कना़डा, आस्ट्रेलिया, इज्रायल के साथ-साथ भूटान, डेनमार्क, डोमिनिकन रिपब्लिक, फिजी, इंडोनेशिया, न्यूजीलैंड, केन्या, फिलिपिन्स, श्रीलंका और सुरीनाम के राजनयिक मौजूद थे। कार्यक्रम के शुरुआत में भाजपा के अंतरराष्ट्रीय सेल के प्रमुख विजय चौथाइवाले ने राजनयिकों का स्वागत किया। इसके बाद उन्हें जनसंघ काल से भाजपा के बनने और लोकसभा में दो सीटों से 303 सीटों के सफर पर लघु फिल्म दिखाई गई।

Edited By: Arun Kumar Singh