मोदी सरकार - 2.0 के 100 दिन

नई दिल्‍ली, एएनआइ। भारतीय जनता पार्टी के सांसद डॉ. वीरेंद्र कुमार 17वीं लोकसभा के प्रोटेम स्‍पीकर होंगे। वह नवनिर्वाचिता सांसदों को शपथ दिलाएंगे। बता दें किे वीरेन्द्र कुमार 6 बार से सांसद हैं और वह दलित समुदाय से आते हैं। हालांकि, पहले ऐसा कहा जा रहा था कि बरेली से आठवीं बार सांसद चुने गए संतोष कुमार गंगवार प्रोटेम स्‍पीकर होंगे। बता दें कि इससे पहले सुल्तानपुर से बीजेपी सांसद मेनका गांधी के स्पीकर बनने की काफी चर्चा थी।

जब भी कोई नई लोकसभा गठित होती है तो संसद के निचले सदन यानी लोकसभा में सबसे अधिक समय गुजारने वाले सदस्य या निर्वाचित सबसे वरिष्ठ सदस्य को प्रोटेम स्पीकर नियुक्त किया जाता है। संसदीय मामलों के मंत्रालय के माध्यम से सत्तारूढ़ पार्टी या गठबंधन प्रोटेम स्पीकर का नाम राष्ट्रपति के पास भेजता है। इसके बाद राष्ट्रपति प्रोटेम स्पीकर को नियुक्त करते हैं, जो नवनिर्वाचित सदस्यों को शपथ दिलाता है। नए सांसदों को शपथ दिलाने में प्रोटेम स्पीकर की सहायता के लिए सरकार दो-तीन नामों की सिफारिश करती है। करीब दो दिनों तक सदस्यों को शपथ दिलाने का काम चलता है और इसके बाद सदस्य अपने लोकसभा अध्यक्ष का चुनाव करते हैं। अध्यक्ष के चुनाव के बाद राष्ट्रपति संसद के दोनों सदनों को संयुक्त रूप से संबोधित करते हैं।

प्रोटेम स्पीकर सामान्य चुनाव के बाद संसद के निचले सदन की पहली बैठक की अध्यक्षता करता है, इसके अलावा बैठक में अध्यक्ष और उपसभापति का चुनाव होता है, यदि यह एक नया गठित सदन है। इस बार संतोष गंगवार को प्रोटेम स्पीकर बनाया जा सकता है। संतोष गंगवार 8वीं बार सांसद बने हैं। इस बार भी वह यूपी की बरेली संसदीय सीट से चुनकर आए हैं। इनके अलावा मेनका गांधी के नाम की भी इस पद के लिए चर्चा जोरों पर है। वह भी आठ बार से सांसद हैं। वे उत्तर प्रदेश की सुल्तानपुर सीट से विजयी हुई हैं। मेनका पिछली सरकार में महिला एवं बाल विकास मंत्री थीं।

प्रोटेम शब्द लैटिन भाषा के शब्द प्रो टैम्पोर का संक्षिप्त रूप है। इसका अर्थ होता है- 'कुछ समय के लिए'। प्रोटेम स्पीकर की नियुक्ति राष्ट्रपति करता है और इसकी नियुक्ति आमतौर पर तब तक के लिए होती है जब तक लोकसभा या विधानसभा अपना स्थायी विधानसभा अध्यक्ष (स्पीकर) नहीं चुन लेती। प्रोटेम स्पीकर नवनिर्वाचित सांसदों को शपथ दिलवाता है और शपथ ग्रहण का पूरा कार्यक्रम इन्हीं की देखरेख में होता है।

सदन में जब तक सांसद शपथ नहीं ले लेते, तब तक उनको सदन का हिस्सा नहीं माना जाता। सबसे पहले सांसद को शपथ दिलाई जाती है। जब सांसदों की शपथ हो जाती है तो उसके बाद यह सभी लोकसभा स्पीकर का चुनाव करते हैं। संसदीय परंपरा के मुताबिक राष्ट्रपति सदन में वरिष्ठतम सदस्यों में से किसी एक को प्रोटेम स्पीकर के लिए चुनते हैं। यही व्यवस्था लोकसभा के अलावा विधानसभा के लिए होती है। अभी तक सामान्यत: सदन के वरिष्ठतम सदस्य को यह जिम्मेदारी सौंपी जाती है।

लोकसभा चुनाव और क्रिकेट से संबंधित अपडेट पाने के लिए डाउनलोड करें जागरण एप

Posted By: Tilak Raj

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप