नई दिल्ली [जेएनएन]। देश के पूर्व प्रधानमंत्री और भारत रत्न अटल बिहारी वाजपेयी शुक्रवार को पंचतत्व में विलीन हो गए। पूरे राजकीय सम्मान के साथ राष्ट्रीय स्मृति स्थल पर उनका अंतिम संस्कार किया गया। सुबह से ही अटल बिहारी के अंतिम दर्शनों के लिए लोग इकट्ठा होेना शुरू हो गए। 

अंतिम दर्शनों के लिए भाजपा मुख्यालय पर हजारों लोग इकट्ठा हुए और दोपहर बाद उनकी अंतिम यात्रा निकाली गई। जिसके बाद हजारों लोगों ने राजनीति के इस 'अजातशत्रु' को नम आंखों से विदाई दी। 

भाजपा मुख्यालय से शुरू हुई अंतिम यात्रा
पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी की अंतिम यात्रा भाजपा मुख्यालय से शुरू हुई। सेना की एक विशेष गाड़ी पर वाजपेयी की अंतिम यात्रा निकाली गई। तीनों सेनाओं की एक संयुक्त टुकड़ी उनके पार्थिव शरीर को लेकर निकली। अंतिम यात्रा में हजारों की संख्या में लोग अटल बिहारी अमर रहे का नारा लगाते हुए चल रहे थे। अंतिम यात्रा में उनके पार्थिव शरीर को लेकर चल रहे वाहन के पीछे-पीछे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और भाजपा अध्यक्ष अमित शाह भी पैदल चल रहे थे।

  

भाजपा मुख्यालय में अंतिम दर्शन
पूर्व प्रधानमंत्री वाजपेयी के पार्थिव शरीर को गुरुवार रात उनके निवास स्थान लाया गया था। शुक्रवार सुबह से ही यहां उन्हें श्रद्धांजलि देने वालों तांता लग गया। कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी, आंध्र प्रदेश के मुख्यमंत्री एन चन्द्रबाबू नायडू, राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजीत डोभाल, सेना प्रमुख बिपिन रावत, नौसेना प्रमुख सुनील लांबा और आरएसएस प्रमुख मोहन भागवत ने पूर्व प्रधानमंत्री को उनके सरकारी आवास पर श्रद्धांजलि दी। इसके बाद शुक्रवार सुबह उनकी पार्थिव देह भाजपा मुख्यालय ले जाई गई ताकि लोग अंतिम दर्शन कर सकें और श्रद्धांजलि दे सकें। यहीं से दोपहर दो बजे उनकी अंतिम यात्रा निकाली गई।

पीएम मोदी समेत तमाम दिग्गजों ने की शिरकत

अंतिम यात्रा में पीएम मोदी और शाह के अलावा कई केंद्रीय मंत्री, गुजरात के सीएम विजय रुपाणी, महाराष्ट्र के सीएम देवेंद्र फड़णवीस, मध्यप्रदेश के शिवराज सिंह चौहान, यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ समेत कई राज्यों के मुख्यमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी की अंतिम यात्रा में शामिल थे।

स्मृति स्थल पर हुआ अंतिम संस्कार
पूर्व प्रधानमंत्री का अंतिम संस्कार यमुना नदी के घाट पर स्थित राष्ट्रीय स्मृति स्थल पर किया गया। वाजपेयी की दत्तक पुत्री नमित ने उन्हें मुखाग्नि दी। अंतिम संस्कार के वक्त प्रधानमंत्री मोदी और भाजपा नेताओं के अलावा कई विपक्षी नेता भी स्मृति स्थल पर मौजूद रहे। इनमें कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी, पूर्व पीएम मनमोहन सिंह समेत कई और दिग्गज नेता भी मौजूद रहे। 

Posted By: Vikas Jangra

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस