मुंबई, एजेंसी। अमरावती की सांसद नवनीत राणा ने सिटी कमिश्नर पर केमिस्ट की हत्या मामले को दबाने का आरोप लगाया है। राणा ने कहा कि शहर की पुलिस आयुक्त आरती सिंह ने हत्या को डकैती के तौर पर पेश करने की कोशिश की। उन्होंने कहा कि 12 दिनों के बाद वह घटना पर सफाई दे रही हैं। उन्होंने पहले कहा कि यह एक डकैती थी और मामले को दबाने की कोशिश की। अमरावती के पुलिस आयुक्त के खिलाफ भी जांच होनी चाहिए।

निर्दलीय सांसद ने यह भी कहा कि उन्होंने मामले को लेकर गृह मंत्री अमित शाह को पत्र लिखा था, जिसके बाद राष्ट्रीय जांच एजेंसी (एनआईए) ने कार्रवाई की। जांच के लिए एनआईए की टीम अमरावती पहुंची। इससे पहले केंद्रीय गृह मंत्रालय के प्रवक्ता ने ट्वीट कर कहा कि मामला केंद्रीय जांच एजेंसी को सौंप दिया गया है।

बता दें कि 21 जून, 2022 को दवा व्यवसायी उमेश प्रह्लादराव कोल्हे रात 10 से 10.30 बजे के बीच अपनी दुकान अमित मेडिकल स्टोर बंद कर अपनी स्कूटी से अपने घर की रवाना हुआ था। लेकिन रास्ते में ही दो मोटरसाइकिल सवारों ने उसे रोककर उसकी उसी तरह बर्बरतापूर्वक हत्या कर दी, जैसी कुछ दिन बाद उदयपुर में एक दर्जी कन्हैयालाल तेली की की गई। उमेश के परिवार का कहना है कि उसकी किसी से कोई दुश्मनी नहीं थी। हत्या के समय उमेश की जेब में रखे पैसे भी सुरक्षित पाए गए। लेकिन उनके मोबाइल से नूपुर शर्मा के समर्थन में कुछ वाट्सएप्प संदेश इधर-उधर भेजे पाए गए। चूंकि दोनों हत्यारे एक विशेष धर्म से संबंध रखते हैं। अब तक की पूछताछ में हत्यारों ने पुलिस को बताया है कि यह हत्या नूपुर शर्मा का समर्थन करने के कारण ही हुई है।

केमिस्ट की हत्या का मुख्य आरोपी गिरफ्तार

अमरावती में केमिस्ट की हत्या के मामले में पुलिस ने मुख्य आरोपी को शनिवार को गिरफ्तार कर लिया। यह इस मामले में सातवीं गिरफ्तारी है। पुलिस ने कहा कि यह हत्या का संबंध भाजपा की निलंबित नेता नुपुर शर्मा के समर्थन में सोशल मीडिया पोस्ट से हो सकता है। सीनियर पुलिस अधिकारी ने बताया कि एनआईए की टीम अमरावती पहुंच चुकी है। उन्होंने बताया कि राज्य पुलिस के आतंकवाद-निरोधक दस्ते (एटीएस) की एक टीम भी अमरावती शहर पहुंच रही है।

Edited By: Sanjeev Tiwari