नई दिल्‍ली, एएनआइ। केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह 23 अक्टूबर से 25 अक्टूबर तक जम्मू-कश्मीर के दौरे पर रहेंगे। सूत्रों ने बुधवार को बताया कि शाह का जम्मू-कश्मीर का यह तीन दिवसीय दौरा इस साल आठ सितंबर को शुरू हुए केंद्र सरकार के उस बड़े कार्यक्रम के दूसरे संस्करण का हिस्‍सा है जिसके तहत 70 केंद्रीय मंत्रियों ने केंद्र शासित प्रदेश का दौरा किया था। शाह के इस दौरे को विभिन्न केंद्रीय योजनाओं के बारे में जनता को सूचित करने के साथ ही जमीनी प्रतिक्रिया हासि‍ल करने के लिए डिजाइन किया गया है। 

उल्‍लेखनीय है कि केंद्र सरकार की पहल के तहत अब तक कई मंत्री जम्‍मू-कश्‍मीर की आवाम के बीच पहुंच चुके हैं। सूत्रों ने बताया कि इस दौरान गृहमंत्री शाह अधिकारियों से मिलेंगे और सूबे में कानून-व्यवस्था की स्थिति का जायजा लेंगे। साथ ही विभिन्न परियोजनाओं के प्रगति की समीक्षा करेंगे। सूत्रों ने बताया कि शाह वहां स्‍थानीय भाजपा नेताओं से भी मुलाकात करेंगे। इस दौरान उनकी जम्‍मू-कश्‍मीर में लोगों की सुरक्षा, विकास परियोजनाओं जैसे विभिन्न मुद्दों पर बातचीत होगी।

मालूम हो कि केंद्र सरकार का पहला मेगा आउटरीच कार्यक्रम पिछले साल 18-24 जनवरी के दौरान हुआ था जिसमें 36 केंद्रीय मंत्रियों ने जम्मू-कश्मीर का दौरा किया था। इस कार्यक्रम का उद्देश्य जम्मू-कश्मीर में चल रही परियोजनाओं और अनुच्छेद-370 और 35ए के निरस्त होने के बाद हुए विकास कार्यों की समीक्षा करना है। अपने दौरे के दौरान अब तक कई केंद्रीय मंत्रियों ने स्थानीय लोगों, प्रशासन और पंचायती राज संस्थाओं के प्रतिनिधियों से बातचीत की है।

केंद्रीय मंत्रियों ने अपनी यात्राओं के तहत जम्मू-कश्मीर के सुदूर इलाकों का दौरा किया है। खास तौर पर दक्षिण कश्मीर का दौरा किया है जिसे कभी आतंकवाद का केंद्र माना जाता था। यात्रा के बाद सभी केंद्रीय मंत्रियों ने पिछले साल गृह मंत्रालय और प्रधानमंत्री कार्यालय को अपनी रिपोर्ट सौंपी थी। सूत्रों ने बताया कि इस साल भी यही प्रक्रिया अपनाई जाएगी। शाह फोरेंसिक विज्ञान प्रयोगशाला का उद्घाटन करने के लिए 14 अक्टूबर को गोवा का भी दौरा करेंगे। इस दौरान वह राज्य सरकार के शीर्ष अधिकारियों के साथ बैठक भी करेंगे।

Edited By: Krishna Bihari Singh

जागरण फॉलो करें और रहे हर खबर से अपडेट