नई दिल्ली, एएनआइ। गृह मंत्रालय ने मंगलवार को साफ किया कि गृह मंत्री अमित शाह की तरफ से कोई भी ट्वीट जम्मू-कश्मीर और लद्दाख में इंटरनेट बंद किए जाने के संदर्भ में नहीं किया गया है। गृह मंत्रालय ने कहा कि सोशल मीडिया में अमित शाह के नाम से एक ट्वीट सर्कुलेट हो रहा है जिसमें कहा गया है कि जम्मू-कश्मीर एवं लद्दाख में फिक्सड लाइन ब्राडबैंड एवं इंटरनेट सेवाएं बंद होने जा रही हैं। गृह मंत्रालय ने कहा कि यह ट्वीट फर्जी है। मंत्रालय ने कहा है कि केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह की ओर से इस तरह का कोई ट्वीट नहीं किया गया है।

यहां आपको बता दें कि इन दिनों फेक न्यूज का चलन काफी तेजी से बढ़ रहा है। पहले कोरोना महामारी से जुड़ी और फिर भारत के चीन से विवाद के बाद कई तरह की फेक न्यूज शेयर की जा रही है। नेताओं की तरफ से फेक न्यूज जारी हो रही है, जिसपर पीआईबी की तरफ से समय-समय पर फैक्ट चेक किया जा रहै है। गत 26 जून को पीआईबी ने असम के बागजान स्थित ऑयल इंडिया के तेल कुएं के बारे में दी गई गलत जानकारी का फैक्ट चेक किया। सोशल मीडिया में एक वीडियो सर्कुलेट हुआ जिसमें कहा गया कि बागजान तेल कुएं से ऑयल का रिसाव हो रहा है और यह ऑयल आस पास की नदियों एवं जल स्रोतों में बह रहा है। वहीं, पीआईबी ने अपने फैक्ट चेक में इसे पूरी तरह गलत बताया। पीआईबी ने कहा कि यह पूरी तरह से गलत है।

वहीं, इससे पहले बीते 15 जून को भारतीय चिकित्सा अनुसंधान परिषद (आईसीएमआर) के बारे में एक झूठ फैलाने की कोशिश की गई जिसका कि आईसीएमआर को खंडन करना पड़ा।...और तो और भुटान को लेकर भी फेक खबर सामने आई, जिसमें कहा गया कि भूटान द्वारा भारतीय सीमा पर असम में सिंचाई के लिए पानी छोड़ना बंद कर दिया गया है। इस मुद्दे पर भूटान सरकार की ओर से सफाई दी गई कि उनके देश से असम की ओर जाने वाले पानी की सप्‍लाई को रोका नहीं गया है, वो पहले की तरह ही जारी है।

Posted By: Nitin Arora

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस