भोपाल [ जेएनएन ]। पाकिस्तान की जेल से मई 2018 को छूटकर मध्य प्रदेश के सिवनी जिले के बरघाट लौटे जितेंद्र अर्जुनवार को भोपाल की साइबर क्राइम ने बुधवार रात गिरफ्तार कर लिया। जितेंद्र के साथ उसके भाई भरत अर्जुनवार को भी पुलिस गिरफ्तार कर भोपाल ले आई। आरोप है कि जितेंद्र ने भाई के ट्विटर अकाउंट से सूबे के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान को जान से मारने की धमकी दी थी।

हालांकि, दोनों को जमानत मिल गई है। पुलिस के मुताबिक ट्विटर पर जितेंद्र ने लिखा था कि अगर सीएम शिवराज सिवनी आए तो वह उन्हें जान से मार देगा। जितेंद्र व उसके भाई ने पांच से सात अगस्त के बीच पांच बार सीएम को धमकी भरा मैसेज भेजा। साइबर क्राइम यह जानने में जुटी है कि सीएम को धमकी भरे मैसेज क्यों भेजे गए। गंभीर बीमारी से ग्रसित है जितेंद्र जितेंद्र सिकलसेल एनीमिया जैसी गंभीर बीमारी से पीडि़त है।

पाकिस्तान जेल से रिहा होने के बाद सरकार व स्थानीय प्रशासन ने जितेंद्र को इलाज के लिए जरूरी मदद उपलब्ध कराने का भरोसा दिलाया था। पाकिस्तान से आने के बाद उसे इलाज के लिए दिल्ली ले जाया गया था। वहां पर उसे दवाइयां उपलब्ध कराई गई थी। वहीं, सिवनी पुलिस ने भी जितेंद्र को घर लाने के लिए 10 हजार रुपये की सहायता दी थी। आगे की जरूरतों के लिए स्वास्थ्य विभाग से संपर्क करने को कहा गया था।

2013 को पाकिस्तान ने किया था गिरफ्तार

बिना बताए घर से निकले जितेंद्र को पाकिस्तानी रेंजर्स ने 12 अगस्त 2013 को भारतीय सीमा से 35 किमी दूर सिंध छावनी क्षेत्र में गिरफ्तार किया था। जितेंद्र पानी की तलाश में एलओसी पार कर पाकिस्तानी सीमा में दाखिल हो गया था। बाद में उसे पाकिस्तान की जेल में रखा गया। अप्रैल, 2018 में भारतीय नागरिकता की पुष्टि होने के बाद उसे मई 2018 में कराची की मलिर जेल से पाकिस्तान सरकार ने रिहा किया था।

उधर, भोपाल में पुलिस महानिरीक्षक इंटेलीजेंस मकरंद देउस्कर ने बताया कि जितेंद्र का पुराना रिकॉर्ड खंगाला जा रहा है। जितेंद्र ने मुख्यमंत्री को धमकी देने के लिए जिस सिम का उपयोग किया था, वह भरत के नाम पर है।

 

Posted By: Ramesh Mishra