वाशिंगटन, आइएएनएस। अमेरिकी संसद के निचले सदन- हाउस ऑफ रिप्रेजेंटेटिव्स में डेमोक्रेट का वर्चस्‍व है। यहां गुरुवार को राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प की युद्ध के ऐलान से जुड़ी ताकतों को सीमित करने के प्रस्ताव पर वोटिंग की गई। इसके पक्ष में 224 वोट पड़े, और विपक्ष में 194 वोट। इसके बाद रिपब्लिकन बहुमत वाले सीनेट में इसे भेजा जाएगा जहां से पारित होने पर संशय बरकरार है। डेमोक्रेट नियंत्रित हाउस ऑफ रिप्रेजेंटेटिव्‍स ने दो विधेयक पारित किए जो राष्‍ट्रपति ट्रंप की युद्ध क्षमताओं के खात्‍मे व ओवरसीज में लड़ाई के लिए अमेरिकी सेनाओं की तैनाती के लिए है। इराक में अमेरिकी ड्रोन हमले में ईरानी जनरल कासिम सुलेमानी के मारे जाने के करीब एक माह बाद यह फैसला लिया गया है।

इस साल के आरंभ में 3 जनवरी को इराक स्थित ईरानी आर्मी कैंप पर ड्रोन हमले में आर्मी जनरल कासिम सुलेमानी की मौत हो गई। इसक बाद से ही ईरान और अमेरिका के बीच संबंध काफी तनावपूर्ण हो गया है।

हाउस ऑफ रिप्रेजेंटेटिव्स की स्पीकर नैंसी पेलोसी के अनुसार, इस विधेयक के प्रस्‍ताव में ईरान के खिलाफ युद्ध के ऐलान की ट्रंप की ताकत को सीमित करना है। इस विधेयक के पारित होने के बाद कांग्रेस की अनुमति के बगैर राष्‍ट्रपति के द्वारा युद्ध का ऐलान संभव नहीं। पेलोसी ने कहा, 'कांग्रेस के सदस्यों ने ट्रंप प्रशासन के ईरान के साथ सीधे टक्कर लेने के फैसले पर चिंता जाहिर की है। साथ ही हमारी आगे की कमजोर तैयारियों पर भी सवाल उठाए गए हैं। हमारी चिंताओं के बारे में राष्ट्रपति और उनके प्रशासन की तरफ से कोई सफाई नहीं जारी की गई।'  बता दें कि ट्रंप ने घोषणा की थी कि वे ईरान के खिलाफ सैन्य तनाव को कम करने के लिए जरूरी कदम उठाएंगे।

यह भी पढ़ें: अमेरिका से ट्रेड डील: राष्ट्रपति ट्रंप की फरवरी में नई दिल्ली यात्रा के दौरान ट्रेड डील की घोषणा संभव

ईरानी हमले में घायल 16 अमेरिकी जवानों में दिमागी चोट का पता चला, इलाज के लिए भेजा गया जर्मनी

Posted By: Monika Minal

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस