गोरखपुर, जेएनएन। भारत से आयातित फल व  सब्जियों की विषाक्तता जांच के लिए नेपाल 12 नए केंद्रों का निर्माण कराएगा। केंद्रों पर विषाक्तता जांच के अलावा कोरेंटाइन जांच भी होगी।

उद्योग मंत्रालय के प्रवक्ता ने दी जानकारी

नेपाल के उद्योग मंत्रालय के प्रवक्ता मोहनकृष्ण महाजन ने यह जानकारी पत्रकारों को दी है। महाजन ने बताया कि नौ जांच केंद्र भारत नेपाल के व्यापारिक प्रवेश स्थलों पर बनेंगे। जिसमें सोनौली व बढऩी बार्डर से बेलहिया व कृष्णनगर में भी केंद्र बनाए जाने का जिक्र है।

यहां भी बनेंगे जांच केंद्र

नेपाली मीडिया के आई रिपोर्ट में बताया गया है कि दो जांच केंद्र नेपाल-चीन नाकों पर बनेंगे। जबकि एक जांच केंद्र राजधानी काठमांडू के त्रिभुवन हवाई अड्डा के पास बनेगा। जिसमे हवाई मार्ग से आयातित होने वाले कृषि उत्पादों की जांच होगी। नेपाल सरकार ने जांच उपकरण खरीद के लिए 10 करोड़ रुपये की मंजूरी दी है। जिसका जल्द ही टेंडर कराकर निर्माण कार्य शुरू कर दिया जाएगा।

जांच को लेकर हो चुका है विवाद

पिछले दिनों नेपाल द्वारा भारतीय सब्जियों की बिना जांच के नेपाल में प्रवेश को प्रति‍बंधित कर दिया गया था। इससे नेपाल में भारतीय सब्जियों और फलों की सप्‍लाई बंद हो गई थी। करीब एक सप्‍ताह के गतिरोध के बाद कुछ स्‍थानों पर जांच केंद्र बनाकर सब्जियों की जांच कर सप्‍लाई शुरू कराई गई थी लेकिन यह जांच केंद्र बहुत दूरी पर थे इसलिए व्‍यापारियों को काफी कठिनाई का सामना करना पड़ता था। माना जा रहा है कि नेपाल सरकार द्वारा नए जांच केंद्र बनवाए जाने से भारत से सब्जियों व फलों की आपूर्ति में आसानी होगी।

नेपाली पुलिस ने पकड़ी लाखों की खाद

उधर, नेपाल की पुलिस ने महराजगंज के सेमरा चौराहे पर एक झोपड़ी में रखी 70 बोरी डीएपी खाद लावारिश हालत में बरामद किया। सूचना के बाद भी कोई नहीं आया तो पुलिस ने खाद लावारिस बता कृषि विभाग को सौंप दिया। बरामद खाद की कीमत एक लाख रुपए बताई गई है।

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस