गोरखपुर, जेएनएन। नेपाल में इन दिनों भारत विरोधी कार्यों के लिए वहां के मुसलमानों ने बागडोर संभाल ली है। यही कारण है कि नेपालियों को उकसाकर वह समय-समय पर जुलूस निकाल कर बार्डर पर प्रदर्शन कर रहे हैं और भारत विरोधी नारेबाजी कर रहे हैं। भारत-नेपाल के सोनौली बार्डर पर बुधवार को हुए प्रदर्शन का नेतृत्‍व अब्‍दुल रज्‍जाक ने किया।

प्रदर्शनकारियों को नेपाली सशस्‍त्र बल ने बार्डर से वापस भेजा 

भारत- नेपाल सीमा से सटे बेलहिया कस्बे में बुधवार को पूर्व निर्धारित कार्यक्रम के तहत नेपाली कांग्रेस व तरुण दल के सैकड़ों कार्यकर्ताओं ने संयुक्त रूप से भारत विरोधी प्रदर्शन करते हुए सोनौली बार्डर तक पहुंच गए। इसका नेतृत्‍व अब्‍दुल रज्‍जाक कर रहा था। हालांकि नेपाल सशस्त्र बल के जवानों ने प्रदर्शन कर रहे लोगों को नियंत्रित कर बार्डर से वापस भेज दिया।

बताते हैं कि रुपंदेही जिला कांग्रेस व तरुण दल के दर्जनों कार्यकर्ता भैरहवा कस्बे से भारत विरोधी प्रदर्शन करते हुए एक जुलूस की शक्ल में सोनौली नोमेंस लैंड के करीब पहुंचे। आंदोलनकारी वहीं  पर खड़े होकर भारत वापस जाओ, विस्तारवाद मुर्दाबाद का नारा लगाने लगे।

प्रदर्शनकारियों का यह है आरोप

प्रदर्शनकारियों का आरोप है कि हाल ही में भारत सरकार द्वारा जारी किए गए उत्तराखंड राज्य के मानचित्र में नेपाल के कुछ हिस्सों को दर्शाया गया है, जो ठीक नहीं है। इस मानचित्र से हटाया जाए। नेपाल में बेलहिया थाने के निरीक्षक विजय राज सिंह ने कहा कि सीमा के निकट बीते  कुछ दिनों से भारत विरोधी प्रदर्शन किए जा रहे हैं। इसकी जानकारी उच्चाधिकारियों को दे दी गई है।

उल्‍लेखनीय है कि नेपाल के रास्‍ते भारत में घुसपैठ करने वाले आतंकियों की लंबी फेहरिस्‍त है। इधर नेपाल में भारत विरोधी लहर पैदा करने के लिए वहां के मुसलमानों ने नेपाली कांग्रेस व तरुण दल जैसे संगठन का सहारा ले रखा है। इस तरह से उन्‍हें भीड़ जुटाने के लिए मेहनत भी नहीं करनी पड़ेगी और दूसरे वह अपने मकसद में सफल भी होंगे।

Posted By: Satish Shukla

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस