इस्तांबुल (रायटर)। तुर्की में लगातार दूसरी बार राष्ट्रपति चुने गए रेसेप तैयप एर्दोगन ने अपने दामाद बेरात अलबायरक को देश का वित्त मंत्री बना दिया है। एर्दोगन ने राष्ट्रपति पद की शपथ लेने के कुछ घंटों बाद ही नई कार्यकारी राष्ट्रपति प्रणाली के तहत अपने नए अधिकारों का इस्तेमाल करते हुए यह नियुक्ति की। नई व्यवस्था के तहत प्रधानमंत्री पद खत्म कर दिया गया है। अब राष्ट्रपति बिना संसद की अनुमति के कैबिनेट मंत्रियों को चुन सकता है और सरकारी कर्मचारियों को हटा सकता है।

बता दें कि बेरात पहले देश के ऊर्जा मंत्री थे। एर्दोगन का कहना है कि वह अपने अधिकारों का इस्तेमाल देश को आगे ले जाने में करेंगे। केंद्रीय बैंक के गर्वनर की नियुक्ति का अधिकार भी राष्ट्रपति के हाथों में होगा। इन नई शक्तियों के साथ एर्दोगन तुर्की के अब तक के सबसे शक्तिशाली नेता बन गए हैं।

लेकिन विपक्षी दलों को आशंका है कि नई प्रणाली से देश में लोकतंत्र खत्म हो जाएगा। पश्चिमी देशों और कई संगठनों ने इस नई व्यवस्था को तानाशाही बताया है। हालांकि एर्दोगन का कहना है कि देश की अर्थव्यवस्था मजबूत करने और सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए यह महत्वपूर्ण है। वर्ष 2016 में सैन्य तख्तापलट की कोशिश के बाद से देश में आपातकाल लागू है। इस महीने आपातकाल समाप्त होने की संभावना है। 

By Monika Minal