नई दिल्ली। टीम इंडिया के पूर्व कप्तान अनिल कुंबले ने सोमवार को राष्ट्रीय क्रिकेट अकादमी [एनसीए] के अध्यक्ष पद से इस्तीफा देकर सभी को चौंका दिया। दो महीने पहले हितों के टकराव को लेकर उनके पद पर रहने को लेकर विवाद पैदा हुआ था।

कुंबले का इस्तीफा बीसीसीआई की कार्यसमिति ने आज हुई बैठक में स्वीकार कर लिया। पंजाब क्रिकेट संघ [पीसीए] के महासचिव एम पी पांडोव को एनसीए का कार्यवाहक अध्यक्ष बनाया गया है। कुंबले ने इस्तीफे का आधिकारिक कारण समय का अभाव बताया है चूंकि वह कर्नाटक राज्य क्रिकेट संघ [केएससीए] के अध्यक्ष, आईपीएल की रायल चैलेंजर्स बेंगलूर के मेंटर होने के साथ अपनी कंपनी टेनविक भी देखते हैं। यह कंपनी कर्नाटक के खिलाडि़यों आर विनय और एस अरविंद का प्रबंधन देखती है। कुछ महीने पहले ऐसी खबरें थी कि केएससीए अध्यक्ष पद पर रहने के कारण कुंबले के हितों का टकराव हो रहा हैं क्योंकि वह एक ऐसी कंपनी के मालिक हैं जो कर्नाटक के शीर्ष खिलाडि़यों का प्रबंधन देखती है।

बोर्ड के कुछ शीर्ष अधिकारियों ने कहा कि एनसीए की कार्यप्रणाली को लेकर कुंबले के बीसीसीआई के आला अधिकारियों से मतभेद हो गए थे चूंकि एनसीए अब चोटिल भारतीय खिलाडि़यों का रिहैबिलिटेशन सेंटर बनकर रह गया है। उन्होंने कहा, बीसीसीआई के आला अधिकारियों का मानना है कि जूनियर स्तर पर कोचिंग का विकेंद्रीकरण होना चाहिए। इससे एनसीए का रूतबा कम हो सकता था क्योंकि यही से जूनियर खिलाडि़यों को तराशा जाता है।

मोबाइल पर ताजा खबरें, फोटो, वीडियो व लाइव स्कोर देखने के लिए जाएं m.jagran.com पर