अपने पसंदीदा टॉपिक्स चुनें close

150 साल का समय लगा था इस शिव मंदिर को तैयार होने में...जानें मंदिर की और भी खास बातें...

संजय पोखरियाल   |  Publish Date:Mon, 06 Nov 2017 02:26 PM (IST)
150 साल का समय लगा था इस शिव मंदिर को तैयार होने में...जानें मंदिर की और भी खास बातें...
150 साल का समय लगा था इस शिव मंदिर को तैयार होने में...जानें मंदिर की और भी खास बातें...

कैलाश मंदिर संसार में अपने ढंग का अनूठा वास्तु जिसे मालखेड स्थित राष्ट्रकूट वंश के नरेश कृष्ण (प्रथम) (760-753 ई.) ने निमित्त कराया था। यह एलोरा जिला औरंगाबाद स्थित लयण-श्रृंखला में है। एलोरा की 34 गुफाओं में सबसे अदभुत है कैलाश मंदिर। विशाल कैलाश मंदिर देखने में जितना खूबसूरत है उससे ज्यादा खूबसूरत है इस मंदिर में किया गया काम। कैलाश मंदिर की खास बात यह है कि इसे इस विशालकाय मंदिर को तैयार करने में करीब 150 साल लगे और करीब 7000 मजदूरों ने लगातार इस पर काम किया। आइए जानते हैं इस मंदिर के बारे में खास बातें।

150 साल का समय लगा था कैलाश मंदिर को तैयार होने में...जानें मंदिर की और भी खास बातें...
150 साल का समय लगा था कैलाश मंदिर को तैयार होने में...जानें मंदिर की और भी खास बातें...

कहां है कैलाश मंदिर

एलोरा का कैलाश मंदिर महाराष्ट्र के औरंगाबाद जिले में प्रसिद्ध एलोरा की गुफाओं में स्थित है। यह एलोरा के 16वीं गुफा की शोभा बढ़ा रही है। इसका काम कृष्णा प्रथम के शासनकाल में पूरा हुआ। कैलाश मंदिर में अति विशाल शिवलिंग देखा जा सकता है।

150 साल का समय लगा था इस शिव मंदिर को तैयार होने में...जानें मंदिर की और भी खास बातें...
150 साल का समय लगा था इस शिव मंदिर को तैयार होने में...जानें मंदिर की और भी खास बातें...

भगवान शिव को समर्पित है मंदिर

कैलाश मंदिर को हिमालय के कैलाश का रूप देने का भरपूर प्रयास किया गया है। शिव का यह दो मंजिला मंदिर पर्वत चट्टानों को काटकर बनाया है। यह मंदिर दुनिया भर में एक ही पत्थर की शिला से बनी हुई सबसे बड़ी मूर्ति के लिए प्रसिद्ध है।

150 साल का समय लगा था इस शिव मंदिर को तैयार होने में...जानें मंदिर की और भी खास बातें...
150 साल का समय लगा था इस शिव मंदिर को तैयार होने में...जानें मंदिर की और भी खास बातें...

कैसे बना है ये मंदिर

90 फीट है इस अनूठे मंदिर की ऊंचाई, 276 फीट लम्बा, 154 फीट चौड़ा है यह गुफा मंदिर। 150 साल लगे इस मंदिर के निर्माण में और दस पीढ़ियां लगीं। 7000 कामगारों ने लगातार काम करके तैयार किया है ये मंदिर।

150 साल का समय लगा था इस शिव मंदिर को तैयार होने में...जानें मंदिर की और भी खास बातें...
150 साल का समय लगा था इस शिव मंदिर को तैयार होने में...जानें मंदिर की और भी खास बातें...

आजतक इस मंदिर में कभी पूजा किए जाने का प्रमाण नहीं मिलता। आज भी इस मंदिर में कोई पुजारी नहीं है। कोई नियमित पूजा पाठ का कोई सिलसिला नहीं चलता।

150 साल का समय लगा था इस शिव मंदिर को तैयार होने में...जानें मंदिर की और भी खास बातें...
150 साल का समय लगा था इस शिव मंदिर को तैयार होने में...जानें मंदिर की और भी खास बातें...

पत्थर को काटकर बनाया था मंदिर

इसके निर्माण में करीब 40 हज़ार टन वजनी पत्थरों को काटकर 90 फुट ऊंचा मंदिर बनाया गया। इस मंदिर के आंगन के तीनों ओर कोठरियां हैं और सामने खुले मंडप में नंदी विराजमान है और उसके दोनों ओर विशालकाय हाथी और स्तंभ बने हैं।

150 साल का समय लगा था इस शिव मंदिर को तैयार होने में...जानें मंदिर की और भी खास बातें...
150 साल का समय लगा था इस शिव मंदिर को तैयार होने में...जानें मंदिर की और भी खास बातें...

नक्काशी है भव्य

एलोरा की गुफा-16 यानि कैलाश मंदिर सबसे बड़ी गुफा है, जिसमें सबसे ज्यादा खुदाई कार्य किया गया है। यहां के कैलाश मंदिर में विशाल और भव्‍य नक्काशी है। कैलाश मंदिर ‘विरुपाक्ष मंदिर’ से प्रेरित होकर राष्ट्रकूट वंश के शासन के दौरान बनाया गया था।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.OK