• Podcast
  • Epaper
  • Hindi News

a

थायरॉइड की रोकथाम एवं कारगर आयुर्वेदिक उपचार

5 photos    |  Published Mon, 25 Oct 2021 12:54 PM (IST)
1/ 5मुलेठी
मुलेठी

थायरॉयड के मरीज जल्दी ही थक जाते हैं। ऐसे में मुलेठी का सेवन करना बेहद फायदेमंद होता है। मुलेठी में मौजूद तत्व थायरॉयड ग्रंथी को संतुलित बनाते हैं और थकान को ऊर्जा में बदल देते हैं।

2/ 5साबुत अनाज
साबुत अनाज

जौ, पास्ता और ब्रेड आदि साबुत अनाज का सेवन करने से थायरॉइड की समस्या नहीं होती क्योंकि साबुत अनाज में फाइबर, प्रोटीन और विटामिन्स आदि भरपूर मात्रा में होता है जो थायरॉइड को बढ़ने से रोकता है।

3/ 5विटामिन ए
विटामिन ए

थायरॉइड के मरीजों को अपने भोजन में विटामिन ए की मात्रा बढ़ानी चाहिए। विटामिन ए थायरॉइड को कम करता है। गाजर औऱ हरी पत्तेदार सब्जियों में विटामिन ए अधिक मात्रा में पाया जाता है।

4/ 5अदरक
अदरक

अदरक में मौजूद गुण जैसे पोटैशियम, मैग्नीशियम आदि थायरॉयड की समस्या से निजात दिलाते हैं। अदरक में एंटी-इंफ्लेमेटरी गुण थायरॉयड को बढ़ने से रोकता है।

5/ 5गेहूं और ज्वार
गेहूं और ज्वार

गेहूं और ज्वार आयुर्वेद में थायराइड की समस्या को दूर करने का बेहतर और सरल प्राकृतिक उपाय है। थायराइड ग्रंथी को बढ़ने से रोकने के लिए आप गेहूं और ज्वार का सेवन करें।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.Accept