Move to Jagran APP

Paris Olympics 2024: स्टेडियम में नहीं नदी पर होगी ओपनिंग सेरेमनी, मेडल में लगा है एफिल टावर का ओरिजिनल लोहा; जानें ओलंपिक से जुड़ी कुछ रोचक बातें

पेरिस ओलंपिक 2024 का काउंट डाउन शुरू हो गया है। 26 जुलाई से खेलों के इस महाकुंभ की शुरुआत होगी। 33वें ओलंपिक खेलों में बैडमिंटन खिलाड़ी पीवी सिंधु ओपनिंग सेरेमनी में महिला ध्वजवाहक होंगी। साथ ही भारतीय पुरुष दल के ध्वजवाहक की जिम्‍मा टेबल टेनिस खिलाड़ी ए शरत कमल निभाएंगे। इस बार ओलंपिक में 206 देशों के करीब 10000 एथलीट हिस्‍सा लेंगे।

By Rajat Gupta Edited By: Rajat Gupta Wed, 10 Jul 2024 04:47 PM (IST)
पेरिस ओलंपिक 2024 का मेडल और प्रतीक। इमेज- सोशल मीडिया

 स्पोर्ट्स डेस्क, नई दिल्ली। पेरिस ओलंपिक 2024 का काउंट डाउन शुरू हो गया है। 26 जुलाई से खेलों के इस महाकुंभ की शुरुआत होगी। 11 अगस्‍त तक होने वाले इस आयोजन पर दुनियाभर के खेल प्रेमियों की नजर टिकी हुई है। 33वें ओलंपिक खेलों में बैडमिंटन खिलाड़ी पीवी सिंधु ओपनिंग सेरेमनी में महिला ध्वजवाहक होंगी।

साथ ही भारतीय पुरुष दल के ध्वजवाहक की जिम्‍मा टेबल टेनिस खिलाड़ी ए शरत कमल निभाएंगे। फ्रांस की राजधानी पेरिस में 100 साल बाद खेलों का आयोजन हो रहा है। इससे पहले 1924 और 1900 में ऐसा हुआ था। इस बार ओलंपिक में 206 देशों के करीब 10000 एथलीट हिस्‍सा लेंगे। पेरिस ओलंपिक कई मायनों में अन्‍य आयोजनों से काफी अलग होने वाला है। आइए इससे जुड़ी कुछ रोचक बातें जानते हैं।

ओपनिंग सेरेमनी

आमतौर पर देखा गया है कि ओलंपिक की ओपनिंग सेरेमनी स्टेडियम में होती है। हालांकि, पेरिस ओलंपिक 2024 की ओपनिंग सेरेमनी खास होने वाली है। यह स्टेडियम के बजाए नदी पर होगी। ओपनिंग सेरेमनी सेरी नदी पर होगी।

मेडल भी है खास

पेरिस ओलंपिक 2024 के मेडल भी अन्‍य आयोजनों से अलग होने वाले हैं। सभी मेडल में एफिल टावर के ओरिजिनल लोहे का इस्‍तेमाल किया गया है। पेरिस 2024 ने मेडल डिजाइन करने के लिए LVMH ज्वैलर चौमेट को बुलाया। वह अपनी शिल्प कौशल के लिए विश्व स्तर पर प्रसिद्ध हैं।

ये भी पढ़ें: ओलंपिक खेलों में भारत के 100 साल पूरे, JSW ग्रुप ने पेरिस में मनाया जश्न

प्रतीक भी है खास

पेरिस ओलंपिक 2024 का एंबलम (प्रतीक) 2019 में लॉन्‍च हुआ था। प्रतीक चिन्ह तीन क्लासिक प्रतीकों को जोड़ता है। इसमें खेल, गेम्स और फ्रांस का प्रतीक है। स्वर्ण पदक खेल का प्रतीक है, लौ ओलंपिक खेलों का प्रतिनिधित्व करती है और मैरिएन फ्रांस का प्रतिनिधित्व करती है। मैरिएन फ्रांसीसी कला और लोकप्रिय संस्कृति में एक महत्वपूर्ण फिगर हैं।

मशाल, मस्‍कट और पिक्टोग्राम

पेरिस खेलों के लिए ओलंपिक मशाल का डिजाइन 2023 में सामने आया था। फ्रांसीसी डिजाइनर मैथ्यू लेहनूर ने मशाल विकसित की है। पेरिस ओलंपिक की मशाल तीन प्रमुख अवधारणाओं से प्रेरित थी: समानता, जल और शांति। "द फ्रीजेस" पेरिस ओलंपिक का आधिकारिक मस्‍कट है।

पिक्टोग्राम का उपयोग मूल रूप से टोक्यो में 1964 के ग्रीष्मकालीन ओलंपिक में किया गया था। पिक्टोग्राम का प्रारंभिक सेट 1960 से 1992 तक नही बदला गया। पेरिस ओलंपिक और पैरालंपिक खेलों के लिए 62 पिक्टोग्राम हैं।

ये भी पढ़ें: Paris Olympics 2024: पेरिस ओलंपिक के लिए इन भारतीय एथलीट्स ने किया क्वालीफाई, देखिए सूची