बहादुरगढ़, प्रदीप भारद्वाज। कॉमनवेल्थ गेम्स में देश के लिए स्वर्णिम जीत हासिल करने वाली झज्जर के गांव गौरिया की लाडली निशानेबाज मनु भाकर रविवार को जब लौटीं तो उत्साह से लबरेज नजर आईं। मनु तीन दिन बाद दक्षिण कोरिया में विश्व कप के लिए रवाना होंगी। उन्होंने वायदा किया कि देश के लिए इसी हौसले और जज्बे को बरकरार रखेंगी।

घर लौटी मनु ने दैनिक जागरण से बातचीत में कहा कि यह लक्ष्य शुरू से ही ज्यादा मुश्किल नहीं था। दूसरे देशों की अपेक्षा स्वदेशी खिलाड़ियों से ही चुनौती मिली। मैंने अपना स्वाभाविक खेल ही दिखाया, जिसमें उसे जीत मिली। अपनी इस जीत को परिवार और कोच समेत पूरे देश को समर्पित करते हुए मनु बोलीं कि सभी की दुआएं और आशीर्वाद ही मेरी हिम्मत बढ़ाती हैं। इससे मेरी जीत भी आसान हो जाती है। अपनी इस उपलब्धि के बाद लोगों से मिले सम्मान के बीच बेहद खुश दिखीं मनु ने कहा कि इस प्यार और दुलार को व्यक्त करने के लिए आज शब्द भी कम पड़ रहें हैं।

हर बेटी के लिए एक ही संदेश, मेहनत करो 

देश की बेटियों के लिए अपने संदेश में मनु ने कहा कि किसी भी क्षेत्र में सफलता का सही रास्ता मेहनत और लगन से ही बनता है। इसलिए सभी को मेहनत करनी चाहिए। इसका फल जरूर मिलता है। सफलता का कोई शॉर्टकट नहीं होता।

बरकरार रखूंगी लय   

बेहद कम अंतराल में ही देश के लिए कई पदक जीतने वाली मनु कोरिया में हो रहे विश्व में शामिल होने के लिए तीन दिन बाद रवाना होंगी। कॉमनवेल्थ में मिली जीत से मनु के हौसले बुलंद हैं। उन्होंने विश्वास जताया कि इस लय को वह विश्व कप में भी बरकरार रखेंगी। कोशिश होगी कि देश की झोली में इसी तरह पदक डालती रहूं।

क्रिकेट की खबरों के लिए यहां क्लिक करें

अन्य खेलों की खबरों के लिए यहां क्लिक करें

By Pradeep Sehgal