जागरण संवाददाता, चंडीगढ़। शहर के उभरते एथलीट आकाश सिंह के लिए दिवाली पर शानदार तोहफा मिला है। आकाश का मुंबई में रिलांयस की ओर से आयोजित  नेशनल एथलेक्टिस चैैंपियनशिप के लिए चयन हो गया है। देश भर से सिर्फ 8 खिलाडिय़ों का इस चैैंपियनशिप के लिए चयन हुआ है। मुंबई में अगर आकाश ने मेडल जीता तो उनके लिए इंटरनेशनल स्तर पर देश का प्रतिनिधित्व करने का रास्ता खुल जाएगा। नेशनल में मेडल जीतने वाले खिलाडिय़ों को विशेष ट्रेनिंग के लिए आस्ट्रेलिया ट्रेनिंग कैंप के लिए चुना जाएगा।

विशेष बातचीत में आकाश ने बताया कि उन्हें नेशनल इवेंट में हिस्सा लेने के लिए कॉल आ चुकी हैैं। यह प्रतियगिता 14 से 16 नवंबर तक मुबंई स्थित साई एकेडमी में होगी। चंडीगढ़ से नेशनल इवेंट के लिए चुने जाने वाले आकाश अकेले खिलाड़ी हैैं। आकाश का कहना है कि चंडीगढ़ में ही रहने वाले ओलंपियन मिल्खा सिंह का ओलंपिक में मेडल जीतने के सपने को पूरा करना चाहते हैैं। सेक्टर-35 स्थित गवर्नमेंट मॉडल स्कूल में 10वीं के स्टूडेंट आकाश सिंह के लिए यह बड़ी उपलब्धि है।

पटियाला में जीते दो गोल्ड मेडल, मिला मुंबई का टिकट


15 साल के आकाश सिंह ने दो साल पहले एथलेक्टिस की शुरुआत की। उन्होंने बताया कि स्कूल स्तर की प्रतियोगिता के लिए स्कूल कोच कुलदीप मेहरा ने उनकी प्रतिभा को परखा और उसके बाद उन्होंने कभी मुडक़र नहीं देखा। कोच कुलदीप बताते हैैं कि आकाश में जबर्दस्त प्रतिभा है, वह इंटनरेशनल स्तर पर देश के लिए मेडल जरुर लाएगा। रिलांयस की ओर से अक्टूबर में पटियाला में आयोजित एथलेक्टिस प्रतियोगिता में आकाश ने 100 और 200 दोनों प्रतिस्पर्धाओं में गोल्ड मेडल जीते थे। दोनों प्रतियोगिताओं में रिकार्ड समय के साथ जीत हासिल की। इसी प्रदर्शन के बाद उन्हें मुंबई में होने वाली नेशनल कंपीटीशन के लिए चुना गया है।

मेडल जीतने का जुनून, दो साल में जीते 22 मेडल  


स्कूल लेवल हो या नेशनल आकाश ने अभी तक हुई लगभग सभी प्रतियोगिता में मेडल जीते हैं। विभिन्न इवेंट में इन्होंने 14 गोल्ड,3 सिल्वर और 5 ब्रांज मेडल अपने नाम किए हैं। आकाश ने कहा कि वह खुद को प्रोफेशनल एथलेटिक्स के तौर पर खुद को तैयार कर रहा है। रोज सुबह और शाम 3 से 4 घंटे की कड़ी प्रेक्टिस कर रहा है। उन्होंने बताया कि वह आजकल मोहाली के सेक्टर-76 स्थित गमाडा स्टेडियम में कोच जुलफकार की देखरेख में प्रेक्टिस कर रहे हैैं।

मुंबई में जीत तय करेगी आकाश का भविष्य


देश भर के एथलीट को तराशने के लिए रिलांयस द्वारा खेलो इंडिया प्रोग्राम का आयोजन किया जा रहा है। नेशनल से पहले देश भर के 14 शहरों में 1500 से अधिक एथलीट के बीच प्रतियोगिता हुई। जिसमें आकाश सिंह ने हिस्सा लिया और अपनी प्रतिभा का दम दिखाया। मुंबई में होने वाली नेशनल चैैंपियनशिप आकाश के लिए उनके करियर का टर्निंग प्वाइंट हो सकती है। प्रतियोगिता के विजेताओं को आस्ट्रेलिया में इंटरनेशनल स्तर की ट्रेनिंग दिलाई जाएगी। साथ ही ऐसे खिलाड़ी के लिए देश की ओर से इंटरनेशनल इवेंट में हिस्सा लेने के दरवाजे खुल जाएंगे।

पिता कांस्टेबल के सपने को करेगा पूरा


आकाश की प्रतिभा को देखते हुए उसे एथलेटिक्स में करियर बनाने में उनके परिवार का भी पूरा सहयोग रहा है। पंजाब पुलिस में कांस्टेबल पिता राजेश कुमार सिंह ने आर्थिक तंगी के बावजूद बेटे को पूरा सहयोग दिया। मां रेखा रानी कहती हैैं कि उन्हें पूरी उम्मीद है कि बेटा एक दिन उनका नाम रोशन करेगा। छोटा भाई रोहत भी उभरता एथलीट है।

Posted By: Pankaj Dwivedi