जागरण संवाददाता, बंडामुंडा : सुंदरगढ़ जिले के बिसरा प्रखंड अंतर्गत जराईकेला पंचायत के कोप¨सगा गांव में बीती रात गजराजों ने जमकर तांडव मचाया। गांव के चु¨रगकोचा निवासी पद्मा मुंडा(58) का घर को तोड़ दिया और उसे पटककर मार डाला। प्रखंड के ऐसे कई गांवों में हाथियों के उत्पात पर लगाम लगाने में वन विभाग और सरकार नाकाम साबित हो रही है। जिसकी वजह से लोगों को न सिर्फ आर्थिक नुकसान झेलना पड़ा, बल्कि कई लोगों की जान भी जा चुकी है।

मंगलवार देर रात करीब 12 बजे जंगली हाथियों के झुंड ने पहले पद्मा मुंडा के घर को तोड़ दिया। फिर भागने के क्रम में उसे दबोच लिया और थोड़ी दूर ले जाकर कुचल कर मार डाला।

-------

ग्रामीणों ने की सोलर फें¨सग की मांग : घटना के खबर पाने के पांच घंटे तक वन विभाग के अधिकारी मौके पर नहीं पंहुचे तो ग्रामीणों का गुस्सा और बढ़ गया। बिसरा प्रखंड प्रमुख मेनोको ओराम, परशु महापात्र एवं झामुमो के युवा नेता सोमनाथ राहा की अगुआई में ग्रामीणों ने पद्मा मुंडा के शव के पास जाम लगाकर नाराजगी जताई। अंतत: दिन को 11 बजे वन विभाग के कर्मचारियों के पंहुचने के बाद प्रखंड प्रमुख मेनोका आराम ने अधिकारियों से बिसरा प्रखंड के हाथी प्राभावित क्षेत्र में सोलर फें¨सग लगाने के साथ साथ ग्रामीणों के नुकसान हुए फसलों की मुआवजे की मांग की। महिला के अंतिम संस्कार के लिए वन विभाग ने 15 हजार रुपये, बिसरा तहसीलदार ने रेडक्रास फंड से पांच हजार रुपये एवं जराइकेला सरपंच पुष्पांजलि भूमिज ने हरीशचंद्र योजना के तहद दो हजार रुपये की सहायता राशि प्रदान की है। वहीं चार लाख रुपये मुआवजा देने का आश्वासन भी दिया है।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस