संबलपुर, संवाद सूत्र। Odisha: दक्षिण ओडिशा के मलकानगिरी और कोरापुट जिला में सक्रिय तीन कैडर नक्सलियों ने समाज के मुख्यधारा में शामिल होकर शांतिपूर्ण जीवन बिताने की इच्छा के साथ मलकानगिरी जिला पुलिस के सामने आत्मसमर्पण कर दिया। आत्मसमर्पण करने वाले नक्सलियों में से दो छत्तीसगढ़ के बीजापुर जिला के हैं, जबकि अन्य एक मलकानगिरी जिला है। इन तीनों पर ओडिशा सरकार ने इनाम रखा था। इन तीनों कैडर नक्सलियों के आत्मसमर्पण को लेकर बुधवार को मलकानगिरी जिला पुलिस मुख्यालय में खूब चहलपहल रही। कड़ी सुरक्षा व्यवस्था के बीच तीनों नक्सली जिला पुलिस अधीक्षक ऋषिकेश खिलारी और बीएसएफ अधिकारियों के पास पहुंचे और आत्मसमर्पण कर दिया। पुलिस अधीक्षक खिलारी ने पुष्पगुच्छ प्रदान कर तीनों का स्वागत करने समेत नक्सलवाद छोड़कर समाज के मुख्यधारा में लौट आने की सराहना करने समेत अन्य नक्सलियों से भी हिंसा छोड़कर आत्मसमर्पण करने की सलाह दी।

इस अवसर पर आयोजित प्रेसवार्ता में पुलिस अधीक्षक खिलारी ने बताया कि 25 वर्षीय शंभू डोडी उर्फ़ मैनू मूलत: छत्तीसगढ़ के बिजापुर जिला के बासेगुडा थाना अंतर्गत चिनाटेरेन गांव का है। वह वर्ष 2009 में सीपीआइ (माओवादी) संगठन के स्वदेश कमेटी मेंबर के रूप में शामिल हुआ था। इसके बाद वर्ष 2010 में उसे नारायणपाटणा एरिया कमेटी का प्लाटून मेंबर बनाया गया। वर्तमान तक वह आंध्र ओडिशा बॉर्डर स्पेशल जोनल कमेटी में एरिया कमेटी मेंबर के रूप में काम कर रहा था। ओडिशा सरकार ने शंभू उर्फ मैनू पर चार लाख का ईनाम रखा था। आत्मसमर्पण करने वाला दूसरा नक्सली भी छत्तीसगढ़ के बिजापुर जिला के गंगलुर थाना अंतर्गत करनाल गांव का राम अपका है। राम भी वर्ष 2009 में सीपीआई ( माओवादी ) संगठन के स्वदेश कमेटी मेंबर के रूप में शामिल हुआ था। उसे भी वर्ष 2010 में नारायणपाटणा एरिया कमेटी में प्लाटून मेंबर बनाया गया। वर्तमान तक वह आंध्र ओडिशा बॉर्डर स्पेशल जोनल कमेटी में एरिया कमेटी मेंबर के रूप में कार्यरत था और सरकार ने उसपर चार लाख का इनाम रखा था।

तीसरा नक्सली मलकानगिरी जिला के जोडांब थाना अंतर्गत बेजिंग गांव का रघु खरा उर्फ़ रघु है। वह वर्ष 2017 में सीपीआइ (माओवादी) संगठन के गुम्मा एरिया कमेटी में शामिल हुआ था और वर्तमान तक वह आंध्र ओडिशा बॉर्डर स्पेशल जोनल कमेटी में पार्टी मेंबर के रुप में कार्यरत था। आत्मसमर्पण करने वाले नक्सलियों ने बताया  कि ओडिशा के मुख्यमंत्री नवीन पटनायक और ओडिशा के पुलिस महानिदेशक अभय के आह्वान के बाद उन्होंने नक्सली संगठन को हमेशा के लिए छोड़कर आत्मसमर्पण किया है। मलकानगिरी जिला में हो रहे विकास और नक्सलियों के खिलाफ सुरक्षा बल के जवानों की सक्रियता को देखते हुए उन्हें आत्मसमर्पण करना ही बेहतर लगा।

Indian T20 League

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप

kumbh-mela-2021