संसू, ब्रजराजनगर : झारसुगुडा जिले के बेलपहाड़ नगरपालिका अंतर्गत एमसीएल द्वारा अधिगृहित चिगरिगुड़ा गांव स्थित मंदिर से मां समलेश्वरी एवं अन्य देवी देवताओं की प्रतिमाओं का मंगलवार को मिरधाडेरा में बने पुनर्वास स्थल में स्थानांतरित किया गया।

ज्ञात हो कि चिगिरिगुड़ा की बॉयल यात्रा अत्यंत ही प्राचीन है एवं धूमधाम से मनाई जाती है। इस यात्रा को इसी उत्साह से मनाने के लिए यह स्थानांतरण किया गया है। एमसीएल के ईब कोयलांचल की समलेश्वरी खदान के संप्रसारण के लिए गांव को पूरी तरह विस्थापित करने की योजना है। एमसीएल द्वारा मिरधाडेरा में विस्थापितों का पुनर्वास एवं अन्य सभी सुविधाएं जुटाने का काम शुरू हो गया है। मिरधाडेरा में एमसीएल का मंदिर बनाने की भी योजना होने तथा सभी ग्रामवासियों को इस स्थान पर आने की एमसीएल महाप्रबंधक मधुसूदन शर्मा की अपील को ध्यान में रखते हुए ग्रामवसियों द्वारा यह निर्णय लिया गया। मंगलवार को विधि विधान से पूजा-अर्चना के बाद सभी देवी देवताओं की प्रतिमाओं को लाकर एक घर मे रखा गया है। नया मंदिर बनने के बाद इन्हें उसमें स्थानान्तरित किया जाएगा। ग्रामवासियों द्वारा इस बाबत उपजिलाधीश से अनुमति भी ली गई थी। कोरोना काल के बाद मिर्धाडेरा में भी विधि विधान से बॉयल यात्रा आयोजित करने की जानकारी ग्रामवसियों ने दी है। आयोजन में में हृदानंद प्रधान ने करता तथा मोतीराम प्रधान, दिलेश्वर साहू, माधव राउत, मुन्ना लोहार आदि ने सहयोग किया। प्रतिमाओं के स्थानांतरण कार्यक्रम में समलेश्वरी खदान के वरिष्ठ अधिकारी दलेई के अलावा चिगिरिगुड़ा के नरेंद्र प्रधान, ललित प्रधान, उदय प्रधान, टंकधर प्रधान दिलीप बारीक, डोलामनी प्रधान, सीताराम प्रधान, नवीन प्रधान तथा सुरेंद्र प्रधान आदि उपस्थित थे।

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप

budget2021