संवाद सूत्र, संबलपुर : कोरोना काल में पुलिस को कई मोर्चो पर लड़ाई लड़नी पड़ रही है। एक तरफ जहां लॉकडाउन को लेकर जारी दिशानिर्देश के तहत लोगों को नियंत्रित किया जा रहा है। वहीं दूसरी तरफ नक्सलियों से भी दो दो हाथ करना पड़ रहा है। मंगलवार की रात, पड़ोसी बरगढ़ जिला में भी पुलिस के डीवीएफ बल को महासमुंद प्लाटून के नक्सलियों के साथ मुठभेड़ का सामना करना पड़ा। इस मुठभेड़ के बाद नक्सली बचकर भाग निकले। इसके बाद, बुधवार से इलाके में सर्च ऑपरेशन शुरू किया गया है। बरगढ़ एसपी पदमिनी साहू ने बताया कि बरगढ़ जिला में किसी भी हालत में नक्सलियों को पैर पसारने का मौ़का नहीं दिया जाएगा। उनके लिए बेहतर होगा कि आत्मसमर्पण कर समाज की मुख्यधारा में शामिल हो जाएं। सरकार की ओर से आत्मसमर्पण करने वाले नक्सलियों के लिए पुनर्वास, स्किल डेवलपमेंट आदि की व्यवस्था की गई है।

बुधवार को बरगढ़ जिला पुलिस कार्यालय में मीडिया से बातचीत में एसपी साहू ने बताया कि मंगलवार की रात, बरगढ़ जिला के मेल्च्छामुंडा थाना अंतर्गत मलाईखमन संरक्षित वनांचल की तलहटी में यह मुठभेड़ हुई थी। रात के समय पुलिस को नक्सलियों के बारे में सूचना मिली थी। इसी के बाद डीवीएफ हवलदार टीआर माझी के नेतृत्व में एक टीम मलाईखमन पहुंची और सर्च ऑपरेशन शुरू कर दिया। रात करीब साढ़े 9 बजे, वनांचल से बाहर निकलते तीन नक्सलियों को देख उन्हें चेतावनी देते हुए आत्मसमर्पण करने को कहा गया, लेकिन नक्सली गोली चलाने लगे। ऐसे में डीवीएफ के जवानों ने भी मोर्चा संभलकर जवाबी कार्रवाई शुरू कर दी तब नक्सली अंधेरे और घने जंगल का लाभ लेकर भाग निकलने में सफल रहे।

एसपी साहू ने बताया है कि बलांगीर- बरगढ़- महासमुंद ( बीबीएम) डिवी•ान के महासमुंद प्लाटून के नक्सली गांववालों को बरगलाने आए थे। प्लाटून का कमांडर प्रवीण इसका नेतृत्व कर रहा था। करीब सात नक्सलियों की इस टीम के भाग निकलने के बाद घटनास्थल से 14 •िादा कारतूस, एक कंपास, नक्सली पोस्टर्स, राशन का सामान, बैटरी आदि जब्त हुआ। उन्होंने यह भी आशंका जताया है कि डीवीएफ की गोलीबारी के दौरान कुछ नक्सली घायल हुए होंगे।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस