संवाद सूत्र, संबलपुर : पड़ोसी देवगढ़ जिला में सोमवार को एकसाथ 22 लोगों में कोरोना संक्रमण की पुष्टि होने के बाद लोगों में दहशत का माहौल उत्पन्न हो गया है। इनमें से 20 प्रवासी और दो आशाकर्मी और सहयोगी शामिल हैं। कोरोना संक्रमितों को इलाज के लिए राउरकेला स्थित कोविड हॉस्पिटल भेजे जाने की खबर है।

प्राप्त जानकारी के अनुसार हाल ही में महाराष्ट्र, आंध्रप्रदेश और तेलंगाना से लौटे देवगढ़ जिला के प्रवासी मजदूरों को रियामाल ब्लॉक अंतर्गत सोड और तिलेईबणी ब्लॉक अंतर्गत ऊंटनिया गांव के क्वारंटाइन सेंटर में रखा गया था और उनका स्वाब नमूना जांच के लिए भेजा गया था। इन प्रवासियों के अलावा सोड क्वारंटाइन सेंटर की एक आशाकर्मी और सहयोगी का स्वाब नमूना भी जांच के लिए भेजा गया था। सोमवार के दिन इसकी रिपोर्ट मिलने के बाद पता चला कि ऊंटनिया क्वारंटाइन सेंटर के 8 और सोड क्वारंटाइन सेंटर में भर्ती 12 प्रवासी मजदूरों समेत इस सेंटर में कार्यरत एक आशाकर्मी और एक सहयोगी भी कोरोना पॉजिटिव हैं। इस रिपोर्ट के बाद समूचे जिला में खलबली सी मची हुई है।

गौरतलब है कि देवगढ़ जिला में 29 अप्रैल के दिन कोरोना पॉजिटिव का प्रथम और एकमात्र मामला सामने आया था। इसके बाद 15 मई के दिन एक और पॉजिटिव मामला सामने आया था, लेकिन 25 मई के दिन एकसाथ 22 पॉजिटिव मामले सामने आने के बाद स्वास्थ्य विभाग और प्रशासन सतर्क हो गया है।

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस