गुरुंडिया में झाड़फूंक के चक्कर में सर्पदंश से प्रधान शिक्षिका समेत दो लोगों की मृत्यु

जागरण संवाददाता, राउरकेला : सुंदरगढ़ जिले के गुरुंडिया ब्लाक में झाड़फूंक के चक्कर में सर्पदंश से तमड़ा प्राथमिक विद्यालय की प्रधानाध्यापिका समेत दो लोगों की मृत्यु हो गई। सर्पदंश के बाद उन्हें अस्पताल ले जाने के लिए पड़ोसियों के कहने पर भी परिवार के लोग तैयार नहीं हुए। 12 घंटे बाद परिवार के लोग उसे राउरकेला सरकारी अस्पताल ला रहे थे। रास्ते में उसकी मृत्यु होने पर उसे घर लेकर फिर से जीवित करने के लिए झाड़फूंक चलता रहा। सूचना मिलने पर गुरुंडिया पुलिस मौके पर पहुंची और दोनों के शव को अपने कब्जे में लिया तथा मंगलवार को पोस्टमार्टम कराने के बाद परिवार वालों को सौंपा गया। गुरुंडिया ब्लाक के लुहरासाई गांव में सोमवार की रात करीब दो बजे 40 वर्षीय चमरु एक्का को सांप ने डस लिया। गुरुंडिया सरकारी अस्पताल से मात्र तीन किलोमीटर दूर उसका घर होने के बावजूद परिवार के लोग उसे वहां नहीं ले गए और गांव के ओझा से झाड़फूंक कराने लगे। 12 घंटे से अधिक समय तक उसका झाड़फूंक चलता रहा पर उसके शरीर से जहर नहीं उतरा और उसकी मृत्यु हो गई। सूचना मिलने पर पुलिस वहां पहुंची और शव को अपने कब्जे में लिया। इसी तरह से गुरुंडिया थाना क्षेत्र में ही तमड़ा पंचायत के कानछिंडा उच्च प्राथमिक विद्यालय की प्रधानाध्यापिका 40 वर्षीय ममतारानी पात्र सांपलता स्थित अपने घर में सो रही थी। तभी उसे गले में करैत सांप ने डस लिया। परिवार के लोग उसे अस्पताल ले जाने के बजाय पास के ओझा को बुलाकर झाड़फूंक कराने लगे। दोपहर तक उसका जहर नहीं उतरने पर उसे सोमवार की शाम को राउरकेला सरकारी अस्पताल ला रहे थे। रास्ते में उसकी मृत्यु हो जाने पर शव को घर ले गए एवं फिर ओझा से झाड़फूंक कराते रहे। देर शाम को पुलिस को इसकी जानकारी मिलने पर पुलिस वहां पहुंची और शव को अपने कब्जे में लिया। दोनों के शवों का मंगलवार को पोस्टमार्टम किया गया एवं उनके परिवार वालों को सौंपा गया। अंधविश्वास के कारण दो लोगों की असमय मृत्यु हो गई। अस्वाभाविक मृत्यु का मामला दर्ज कर पुलिस इसकी जांच कर रही है। ::::::: प्रधानाध्यापिका की मृत्यु पर शोक राउरकेला : गुरुंडिया ब्लाक के तमड़ा पंचायत के कानछिंडा उच्च प्राथमिक विद्यालय की शिक्षिका ममतारानी पात्र की सर्पदंश से मृत्यु होने पर शिक्षक समुदाय की ओर से शोक प्रकट किया गया है। 2007 से वह नौकरी कर रही थी। उनकी शादी वनइकेला पंचायत के सांपलता गांव निवासी राजेश लुहरा के साथ हुई थी। उनके असमय निधन होने पर ब्लाक शिक्षा अधिकारी रवींद्र कुमार माझी, अतिरिक्त शिक्षा अधिकारी बेणुधर स्वाईं, शिक्षक अविनाश एक्का, इंदिरा नायक, सविता पंडा, दोलरंजन गड़तिया, किशोर रोहिदास, फिलमन सोरेंग, वरदाकांत मिश्र, शिवनारायण दांडिया, संतोष नाग, जयप्रकाश चौधरी, राजेश ओराम, अलका महकुड़, कृष्णमयी बेहरा, खिरोद काउड़ी, मगदाली कंडूलना, यज्ञेसिनी पात्र, अंजुलता नायक, विजयंती नायक, भगवती बारिक, वीरेन्द्र फतकर आदि ने शोक प्रकट किया है एवं उनकी आत्मा की सदगति के लिए ईश्वर से प्रार्थना की है।

Edited By: Jagran