संवादसूत्र, पुरी : बहुप्रसिद्ध श्रीजगन्नाथ मंदिर के सेवक परिवारों के दिन बहुरने वाले हैं। सेवक परिवारों के बुजुर्ग, विधवा और दिव्यांगों को मिलने वाले मासिक भत्ता राशि में बढ़ोत्तरी करने समेत व्रती विधवाओं को अलग से आर्थिक सहयोग करने का निर्णय सेवक कल्याण कमेटी द्वारा लिया गया है। पुरी के जिलाधीश सह श्रीमंदिर के उप मुख्य प्रशासक अरविंद अग्रवाल की अध्यक्षता में हुई कमेटी की बैठक में सेवक परिवारों के बुजुर्ग, विधवा और दिव्यांगों को मिलने वाले मासिक भत्ता 1500 रुपये को बढ़ाकर 2 हजार रुपये करने का निर्णय लिया गया है। इसके अलावा जो विधवा व्रत कर कर रही हैं उन्हें 1 हजार रुपये सहायता दी जाएगी। इसी तरह सेवक परिवार के बच्चों के उच्चशिक्षा के लिए प्रदान की जाने वाली छात्रवृत्ति राशि भी 50 प्रतिशत बढ़ायी जाएगी। बैठक में छात्रों को अधिक प्रोत्साहन के बारे में भी चर्चा हुई। साथ ही तय हुआ है कि सेवक परिवार के युवक-युवतियों को प्रधानमंत्री रोजगार योजना के तहत तकनीकी प्रशिक्षण प्रदान करने के साथ बैंकों के जरिये ऋण देकर आत्मनिर्भर बनाया जायेगा। सेवक समवाय समिति का गठन करके रुपये भुगतान और जमा कर सकने की जानकारी श्रीमंदिर के उपमुख्य प्रशासक तथा पुरी के जिलाधीश अरविंद अग्रवाल ने दी है। डीएम ने बताया कि गरीब सेवक परिवारों को प्रधानमंत्री आवास योजना के जरिए गृह निर्माण के लिए आíथक सहायता भी दी जाएगी। इस सिलसिले में पुरी पौर संस्था को निर्देश दिया गया है। सेवक कल्याण योजना को अधिक सक्षम करने के साथ सेवकों को चिकित्सा एवं स्वास्थ्य सहायता प्रदान करने पर भी बैठक में चर्चा हुई। बैठक में जिलाधीश के अलावा श्रीमंदिर नीतिप्रशासक प्रदीप कुमार दास, अतिरिक्त जिलाधीश विभूतिभूषण दास, पौरसंस्था के कार्यनिर्वाही अधिकारी श्रीकांत तराई, उपजिलाधीश भवतारण साहू, श्रीमंदिर परिचालन कमेटी के सदस्य डॉ. सिद्धेश्वर महापात्र प्रमुख उपस्थित थे ।

अलारनाथ के दर्शन को उमड़ रहे श्रद्धालु

देवस्नान पूíणमा को 108 घड़ा जल से स्नान करने के बाद से महाप्रभु श्रीजगन्नाथ बीमार पड़ गए हैं। इससे श्रीमंदिर में महाप्रभु की गुप्त नीति यानी महाप्रभु का इलाज चल रहा है। ऐसे में इस दौरान 14 दिन तक श्रीमंदिर में चतुर्धा मूíत के दर्शन भक्तों के लिए बंद हैं। ऐसे में इन दिनों ब्रह्मागिरी में मौजूद भगवान अलारनाथ का दर्शन करने के लिए भक्तों की भारी भीड़ उमड़ रही है। मान्यता है कि इस दौरान भगवान अलारनाथ का दर्शन करने से महाप्रभु के दर्शन करने के समान पुण्य मिलता है। यही कारण है कि भक्तों की अच्छी खासी भीड़ अलारनाथ मंदिर पहुंचकर प्रभु के नारायण स्वरूप का दर्शन-पूजन कर रही है।

भक्तों को दालमा, उपमा, हलवा खिलाएगा मायुमं

विश्व प्रसिद्ध महाप्रभु श्री जगन्नाथ की रथयात्रा में देश-विदेश से लाखों श्रद्धालु शामिल होते हैं। इनकी सुविधा के लिए मारवाड़ी युवा मंच (मायुमं) कटक ने आगामी 14 जुलाई को महाप्रभु की रथयात्रा के अवसर पर पुरी के मौसीबाड़ी मंदिर (गुंडिचा मंदिर) के सामने विशाल सेवा शिविर लगाने का निर्णय लिया है। मंच के अशोक शर्मा ने बताया की मायुमं, कटक द्वारा पिछले 20 सालों से जगन्नाथ भक्तों की सेवा में निश्शुल्क शिविर लगाया जाता है। अध्यक्ष बजरंग चिमनका ने बताया कि शिविर में 50 हजार से 1 लाख भक्तों को चावल, पूड़ी, दालमा, उपमा, हलवा, पेयजल के साथ साथ प्राथमिक चिकित्सा प्रदान की जाएगी। यह शिविर सुबह 7 बजे से देर शाम भक्तों के आने तक चलेगा। कार्यक्रम संयोजक किशोर आचार्य ने बताया कि शिविर के सफल आयोजन के लिए मंच के 50 से अधिक कर्मठ कार्यकर्ता पिछले 20 दिनों से इसकी तैयारी में जुटे हैं।

Posted By: Jagran