पुरी, जेएनएन। महाप्रभु भगवान जगन्नाथ इन दिनों अणवसर गृह (बुखार घर) में बुखार से पीड़ित हैं। प्रभु को ठीक करने के लिए अणवसर गृह में गुप्त सेवा की जा रही है। ऐसे में मंगलवार पांचवें दिन बुखार से पीड़ित महाप्रभु के श्रीअंग में फुलुरी के तेल से मालिश की गई। मान्यता है कि फुलुरी तेल से मालिश के बाद महाप्रभु धीरे-धीरे स्वस्थ होने लगते हैं। इस फुलुरी तेल को परंपरा के मुताबिक बड़ओड़िआ मठ में तैयार किया जाता है।

मठ के मठाधीश श्रीमंदिर में यह तेल प्रदान करते हैं उसके बाद पति महापात्र (सेवक) तेल की गुणवत्ता को ठीक करते हैं। इसके बाद इस तेल से महाप्रभु के श्रीअंग की मालिश की जाती है। ऐसा विश्वास है कि स्नान पूर्णिमा के दिन महाप्रभु 108 घड़ा से नहाने के बाद बीमार पड़ जाते हैं और इस फुलुरी के तेल की मालिश से धीरे-धीरे ठीक होने लगते हैं।