पुरी, जागरण संवाददाता :

श्रीक्षेत्र अब अशांत हो उठा है। बात बात में बंदूक से गोली चल रही है। पुलिस और अपराधियों के बीच सांठ-गांठ के कारण आम जनता को परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है। धार्मिक शहर में असामाजिक युवकों का बोलबाला बढ़ने लगा है। लोगों की समस्या व असुविधा के प्रति आंख बंद कर केवल महाप्रभु की रथयात्रा श्रृंखलित रूप से संपादन कर बड़े पुलिस अधिकारी वाहवाही लूटते हैं। वास्तविक क्षेत्र में शहर में हर नागरिक अब असामाजिक लोगों से सहमा हुआ है। इस बात को लेकर पुरी वकील संघ की तरफ से विरोध किया गया है। इसको लेकर वकील संघ एकजुट होकर दो बार पुरी एसपी के मिल चुके हैं। पुलिस के साथ अपराधियों के संपर्क को लेकर पुलिस के स्वच्छता पर वकील संघ की तरफ से सवाल किया गया है। पुलिस कोड के अनुसार विभिन्न थाना क्षेत्रों में 3 साल से अधिक रहने वाले पुलिस कर्मचारियों को तुरंत बदली करने के लिए वकील संघ ने मांग की है। जिन पुलिस अधिकारियों की दक्षता नहीं है, उन्हें दूसरे स्थान पर भेजकर नए पुलिस अधिकारियों को धार्मिक स्थल श्रीक्षेत्र में अवस्थापित करने करने के लिए वकील संघ ने मांग की है। पिछली एक तारीख को एक विवाह उत्सव में सरकारी वकील प्रफुल्ल कुमार महान्ति को मारपीट कर घायल करने वाले मुख्य आसामी सोमनाथ साहू उर्फ कप को जल्द ही गिरफ्तार करने के लिए मांग की गई है। पुलिस के साथ सोमनाथ साहू के रिश्ते को लेकर कुम्हारपड़ा थाना पुलिस गिरफ्तार नहीं कर रही है, यह अभियोग वकील संघ के सदस्यों ने की है। गुरुवार को वकील संघ के पूर्व अध्यक्ष आदित्य हृदय मिश्र, उपाध्यक्ष भागीरथी खुण्टिया, संपादक शारदा प्रसाद सामल, युग्म संपादक सितिकान्त शतपथी के नेतृत्व में सैकड़ों वकील संघवद्ध होकर एसपी कार्यालय के सामने पुलिस के खिलाफ नारेबाजी किए। बाद में एसपी, वकीलों के साथ चर्चा किए और जल्द ही इस घटना पर कार्रवाई करने का आश्वासन देने के बाद वकील संघ वापस लौटे।

मोबाइल पर ताजा खबरें, फोटो, वीडियो व लाइव स्कोर देखने के लिए जाएं m.jagran.com पर