पुरी, जागरण संवाददाता। पर्यटक एवं तीर्थ यात्रियों का मुख्य आकर्षण श्रीक्षेत्र धाम पुरी अब उचक्कों के कारण असुरक्षित हो गया है। राज्य सरकार के गृह विभाग एवं पर्यटन विभाग की लापरवाही के कारण हर दिन यहां पर्यटक व तीर्थयात्री पण्डों से लेकर आटो, टैक्सी, होटल, व्यापारियों एवं राहगीर लुटेरों का शिकार हो रहे हैं।

पिछले दो दिनों के अंदर पुरी समुद्र तट पर महाराष्ट्र के पर्यटकों को जिस तरह मोती के माला बेचने वाले फेरीवालों द्वारा बुरी तरह से पीटकर घायल कर दिया गया वह पूरे राज्य में चर्चा का विषय बन गया है।

ट्रेन से उतरते ही भुवनेश्वर एवं पुरी रेलवे स्टेशन में मात्र 3-4 किमी. दूर होटल तक जाने के लिए भी यात्रियों से 200 -300 रुपये तक आटो एवं टैक्सी वाले ले रहे हैं। सरकार द्वारा आज तक पेड टैक्सी व्यवस्था नहीं की गई है। उल्टा आटो वाले बार-बार आंदोलन कर अपने आटो में मीटर लगे होने के बावजूद मीटर के अनुसार चलने एवं पेड आटो स्कीम को लागू करने नहीं दे रहे हैं। सीजन के समय होटलों में यात्रियों से 3 से 4 गुना तक पैसा लिया जा रहा है।

समुद्र किनारे सैकड़ों की संख्या में फेरीवाले मनमाने मूल्य पर नकली सामान बेच रहे हैं। इसको लेकर यात्रियों के साथ मारपीट होती रहती है। केस के चक्कर में न पड़ने के लिए कोई भी यात्री थाना में रिपोर्ट दर्ज नहीं करता। इसका फायदा असामाजिक तत्व उठा रहे हैं।

मोबाइल पर ताजा खबरें, फोटो, वीडियो व लाइव स्कोर देखने के लिए जाएं m.jagran.com पर