संसू, झारसुगुड़ा : वेदांत कंपनी को इडको से मिली सरकारी जमीन की लीज की वैधता को लेकर लगाए गए आरोप का कार्यकारी एजेंसी एमके कंस्ट्रक्शन ने सिरे से खारिज कर दिया है। एमके कंस्ट्रक्शन के गो¨वद ¨सघानिया कानूनी सलाहकार अधिवक्ता पूर्णानंद तिवारी, पार्षद वेणगुपोल पाणिग्राही व प्रताप नंद ने पत्रकारों को बताया कि कुछ स्वार्थ परस्त लोग गांव वालों बहलाकर बिना वजह विरोध कर रहे हैं। इन लोगों ने भी उक्त कार्य के लिए टेंडर भरा था मगर उन्हें ठेका नहीं मिला जिससे ये हताशा में है और इस तरह की हरकत कर रहे हैं। कंपनी को इडको से मिली सरकारी जमीन की लीज वैध है और उक्त जमीन में कोई भी जंगल जमीन शामिल नहीं है। हमने तो तहसीलदार से लेकर जिलाधीश तक को जमीन व ठेका प्राप्ति के सारे कागजात दिखा दिए हैं। कुछ लोग सिर्फ अपने स्वार्थ के लिए गांव वालों को भड़काकर अपना हित साध रहे हैं। अगर इन लोगों को कुछ गलत लगता है तो प्रशासन व वेदांत से सीधी बात करना चाहिए। निर्माण कार्य बंद कराने से क्या होगा। हमारे पास आर्डर है निर्माण कार्य का। हम क्यों बंद करेंगे। हमने इस संबंध में प्रशासन को अवगत कर दिया है। जिलाधीश आजकल में इस मामले में कुछ ना कुछ फैसला लेंगे की बात प्रशासन द्वारा कही गई है।

Posted By: Jagran