संवाद सूत्र, झारसुगुड़ा : बीते दो-तीन दिनों से जारी भीषण ठंड से पूरा जिला शीत लहर की चपेट में आ गया है। इससे लोगों का खासकर ग्रामांचल के लोगों का ठंड के कारण जीना मुहाल हो गया है। आलम यह है कि लोग बहुत जरूरी होने पर ही बाहर निकल रहे हैं वरना घरों में ही रहना मुनासिब समझ रहे हैं। चौक-चौराहों पर लोग निजीस्तर पर अलाव जलाकर ठंड से बचते नजर आए।

बीते दो-तीनों के अंदर अचानक तापमान में गिरावट आने से यह स्थिति उत्पन्न हुई है। इसी बीच शनिवार को जिला का न्यूनतम तापमान 5.8 डिग्री रिकार्ड किया गया जो कि इस वर्ष का सबसे कम है। जिले में बह रही सर्द हवा ठंड को और बढ़ाने से लोगों की चिंता बढ़ी हुई है। वही जिले के लैयकरा व लखनपुर ब्लॉक के कई अंचल में रविवार की सुबह बर्फ की परत नजर आयी।

मौसम विभाग के अनुसार, अभी दो तीन दिन तक इसी तरह से ठंड रहेगी। लैयकरा ब्लॉक के कई स्थानों में खेतों में बर्फ की पतली परत जमी पायी गई। लखनपुर ब्लाक के भी कई गांवों बर्फ गिरने की खबर है।

बामड़ा अंचल में भी ठिठुरन : जंगल और पहाड़ों से घिरे बामड़ा में हुई बारिश के बाद से ठंड का प्रकोप बढ़ गया है। अंचल में शीतलहर महसूस की जा रही है। अंचल का न्यूनतम तापमान 4 से 5 डिग्री सेल्सियस चल रहा है। अंचल के जराबगा एवं कुचिडा ब्लॉक के सईडा तथा जमनकिरा ब्लॉक में खलिहानों में वर्फ की हलकी परत देखे जाने से लोग ठंड को लेकर आशंकित हैं। शाम के समय गांवों में अलाव लोगों का सहारा बन रहे हैं। बढ़ी ठंड के कारण खासकर बुर्जुगों को ज्यादा परेशानी हो रही है।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस