संवादसूत्र, कटक : राज्य में औद्योगिक विकास की दिशा में उत्कल गौरव मधुसूदन दास का अवदान अतुलनीय है। नगर के जवाहरलाल नेहरू इंडोर स्टेडियम में शनिवार को आयोजित ओडिशा कौशल-2018 राज्य स्तरीय प्रतियोगिता का उद्घाटन करते हुए मुख्यमंत्री नवीन पटनायक ने यह बात कही। मुख्यमंत्री ने कहा कि उत्कल गौरव मधु बाबू के जन्म जयंती के मौके पर ओडिशा विकास प्रतियोगिता का शुभारंभ हुआ है। यह एक ऐसा मंच है जहां से छात्र-छात्राओं से लेकर कौशलपूर्ण व्यक्ति विशेष उपकृत होंगे। यह प्रतियोगिता उन्हें अधिक कुशल बनाने में सहायक होगी। इसके साथ ही विश्व दरबार में कौशल विकास के क्षेत्र में ओडिशा अपना विशेष स्थान बनाने में सफल होगा।

मुख्यमंत्री ने कहा कि सरकार ने इसे मिशन के रूप में लिया है। इस प्रतियोगिता के स्वर्ण पदक विजेता को 1 लाख रुपये, रजत पदक विजेता को 75 हजार एवं कांस्य पदक विजेता को 50 हजार रुपये नकद पुरस्कार दिया जाएगा। इस अवसर पर ओडिशा स्किल डेवलेपमेंट अथॉरिटी के अध्यक्ष सुब्रत बागची ने कहा कि विश्व स्तरीय कौशल, प्रतिभा, चरित्र, आत्म विश्वास एवं प्रतिबद्धता को ओडिशा कौशल विकास प्रतियोगिता में देखा सकता है। राज्य के कोने कोने से युवा एवं बच्चे दक्ष बने इसके लिए राज्य सरकार प्रयास कर रही है। राज्य सरकार ने पहली बार इस तरह की प्रतियोगिता आयोजित की है। इससे पूरी दुनिया में ओडिशा के प्रतिभागी अपनी प्रतिभा को प्रदर्शित कर पाएंगे। पहले आइटीआइ में बहुत कम लड़कियां दाखिला लेती थीं मगर आज राज्य में 25 प्रतिशत लड़कियां आइटीआइ में पढ़ाई कर रही हैं। लड़कियां आगे बढ़ेंगी तो समाज आगे बढ़ेगा। उन्होंने कहा कि दिव्यांगों के लिए सरकार ने कई तरह के कदम उठा रखे हैं। इन्हें आत्मनिर्भर बनाने के लिए सरकार मिशन के तौर पर काम कर रही है। कौशल विकास मंत्री ऊषा देवी ने ओडिशा स्किल्ड के झंडे का विमोचन किया। इस अवसर पर कटक के सांसद भर्तृहरि महताब, मेयर मीनाक्षी बेहरा, मुख्य सचिव आदित्य प्रसाद पाढ़ी, कौशल विकास कमिश्नर तथा सचिव संजय कुमार ¨सह, जिलाधीश सुशांत कुमार महापात्र प्रमुख उपस्थित थे।

उल्लेखनीय है कि कौशल प्राधिकरण के जरिए प्रतियोगियों का नाम पंजीकरण किया गया था, जिसमें 6915 प्रतियोगियों ने पंजीकरण किया था, इसमें से 218 प्रतियोगी मौलिक परीक्षा में उत्तीर्ण हुए हैं। 218 प्रतियोगियों में से केवल कटक जिला से 32 प्रतियोगी हैं। राजधानी भुवनेश्वर इडको प्रदर्शनी मैदान में यह प्रतियोगिता सुबह 10 बजे से रात 8 बजे तक चल रही है जो 30 अप्रैल को समाप्त होगी। वर्ष 2019 में रूस के कजन में अगली विश्व कौशल प्रतियोगिता आयोजित की जाएगी।

Posted By: Jagran