जेएनएन, कटक/भुवनेश्वर : कटक जिला के नेमाल नरेंद्रपुर बाजार में सोमवार की शाम दो गुटों के बीच हिंसक झड़प के बाद से क्षेत्र मे तनाव व्याप्त है। मंगलवार को भी एक गुट के लोगों ने हमलावरों की गिरफ्तारी की मांग करते हुए टायर जलाकर पथावरोध किया तो पुलिस ने क्षेत्र में फ्लैग मार्च कर हमलावरों की धर-पकड़ करने तलाशी अभियान चलाया। क्षेत्र में तनाव को देखते हुए जिला प्रशासन ने इलाके के स्कूलों को बंद रखने का निर्देश जारी किया है। इसके साथ ही क्षेत्र की इंटरनेट सेवा को भी बंद कर दिया गया है। पुलिस प्रशासन के तमाम अधिकारी स्थिति पर नजर रखे हुए हैं।

उल्लेखनीय है कि नरेंद्रपुर गोपालसाही का विश्वनाथ बेहरा सोमवार की शाम को अपने ट्राली रिक्शा में गणेश मूíत का सामान लेकर जा रहा था तभी रास्ता छोड़ने को लेकर गांव के ही सोनू बेहरा के साथ कहासुनी हो गई थी। सोनू ने गुस्से में आकर काकुड़ियापड़ा गांव के कुछ युवकों को फोन पर बुला लिया। दो युवक वहां पहुंचकर विश्वनाथ एवं उसके पिता की पिटाई कर दी। स्थानीय लोगों ने बीच-बचाव कर मामला शांत कराते हुए दोनों युवकों को रोक लिया था। इसके बाद काकुड़ियापड़ा के मुखिया एवं स्थानीय सरपंच वहां पहुंचकर घटना का आपसी समाधान करते हुए दोनों युवकों को वहां से लेकर चले गए।

लेकिन कुछ ही देर बाद काकुड़ियापड़ा के सैकड़ों युवक हाथों में धारदार हथियार लेकर नरेंद्रपुर गोपालसाही गांव पहुंचकर वहां उत्पात मचाने लगे। लोगों पर जानलेवा हमला करने की कोशिश की। इनपर महिलाओं के साथ भी बदसलूकी करने का आरोप है। गांव में यह खबर फैलते ही उत्तेजना फैल गई। खबर पाकर बजरंगदल के कार्यकर्ता भी मौके पर पहुंच गए और इस हमले का विरोध करते हुए नेमाल-कुरुआ, कटिकटा-जयपुर मार्ग पर टायर जलाकर सड़क को जाम कर दिया, जिससे यातायात पूरी तरह ठप हो गया। नरेंद्रपुर गोपालसाही बाजार भी बंद हो गई। हमला करने वालों को तुरंत गिरफ्तार करने की मांग करते हुए लोगों ने नारेबाजी की। सूचना पाकर निश्चिंतकोइली थाना की एक पुलिस वैन मौके पर पहुंची तो गुस्साए लोगों ने वैन को आग के हवाले कर दिया। इसके बाद जिलाधीश एवं एसपी के निर्देश पर किशन नगर, माहंगा, निश्चिंतकोइली, नेमाल थाना की पुलिस फोर्स समेत अतिरिक्त एसपी नृ¨सह चरण स्वाई, एसडीपीओ आलोक राय घटनास्थल पर पहुंचकर स्थिति को नियंत्रित करने का प्रयास किया। लेकिन, तब तक उत्तेजना काफी हद तक फैल चुकी थी। दोनों गुट वहां पर आमने-सामने होकर एक-दूसरे पर पथराव कर रहे थे जिसमें 12 लोग घायल हो गए। हालात नियंत्रित न होते देख पुलिस ने लाठीचार्ज कर लोगों को तितर-बितर किया तथा इलाके की बिजली आपूर्ति बंद कराने समेत क्षेत्र में धारा 144 लागू कर दी और तनाव को देखते हुए पांच प्लाटून पुलिस बल तैनात कर दिया गया। देर रात उपजिलाधीश सुशांत प्रधान ने भी स्थिति का जायजा लिया। ग्रामांचल एसपी माधव चंद्र साहू भी देर रात तक घटनास्थल पर मौजूद रहे। इसके बावजूद हमलावरों की गिरफ्तारी की मांग को लेकर मंगलवार को एक गुट के लोगों को विरोध-प्रदर्शन जारी रहा।

Posted By: Jagran