जासं, जमशेदपुर : नीति आयोग के निर्देश के बाद कई स्कूलों को बंद कर दूसरों स्कूलों में विलय किया गया। इसी तरह अब कई संकूल संसाधन केंद्र (सीआरसी) को बंद किया गया। इन केंद्रों में काम करने वाले अब संकुल संसाधन सेवियों (सीआरपी) के युक्तिकरण की प्रक्रिया जिला शिक्षा अधीक्षक कार्यालय ने शुरू कर दी है। सरकार के निर्देश के आलोक में 15 से 16 विद्यालयों पर एक सीआरसी का निर्धारण किया गया। इसमें ही जिले के 136 सीआरपी को पदस्थापित किया जाएगा। जिला शिक्षा अधीक्षक बाके विहारी सिंह ने बताया कि प्रत्येक अधिकतर सीआरसी में एक सीआरपी होंगे। लेकिन जहां एक सीआरसी 20 से अधिक स्कूल होंगे वहां दो सीआरपी की पदस्थापना होगी। उन्होंने बताया कि इसकी सूची तैयार कर ली गई। इस प्रक्रिया को लेकर डीएसई ने शुक्रवार को सभी प्रखंड शिक्षा प्रसार पदाधिकारियों के साथ बैठक की। इसमें सीआरपी युक्तिकरण की तैयारियों का जायजा लिया। सीआरपी के स्थानांतरण की प्रक्रिया सितंबर के पहले सप्ताह तक पूरी कर ली जाएगी।

-------------

कंपनी में काम करने वाले सीआरपी की सूची तैयार कर रहा विभाग

जासं, जमशेदपुर : बर्मामाइंस के सीआरपी नवीन कुमार के खिलाफ शिक्षिका से धोखाधड़ी की शिकायत मिलने के बाद जिला शिक्षा अधीक्षक कार्यालय ने ऐसे सीआरपी की सूची तैयार करनी शुरू कर दी है। जिसके खिलाफ किसी ने शिकायत की है। अब तक विभाग के पास आठ सीआरपी की शिकायत अलग-अलग लोगों द्वारा की गई है। इसमें कई गंभीर आरोप लगाए गए हैं। कई सीआरसी विभिन्न इंश्योरेंस कंपनी व नन बैंकिंग कंपनी में कार्यरत है तो कपड़े की दुकान चलाते हैं। डीएसई कार्यालय इन सभी शिकायत पत्रों को इकठ्ठा कर आरोपों का अध्ययन कर रहा है। इसके बाद विभाग सभी सीआरपी को शोकॉज किया जाएगा।

Posted By: Jagran