भुवनेश्वर, जेएनएन। फणि तूफान से प्रभावित इलाकों में बैंकिंग सेवा एवं बीमा सेवा पहले की तरह सामान्य करने के लिए सरकारी स्तर पर सभी प्रयास किए जा रहे हैं। इसे लेकर गुरुवार को राज्य अतिथि भवन में केंद्र और राज्य के अधिकारियों की एक समीक्षा बैठक संपन्न हुई। इसमें केंद्रीय वित्त मंत्रालय के अतिरिक्त सचिव देवाशीष पंडा एवं राज्य सरकार के वित्त विभाग के मुख्य सचिव अशोक मीना ने आपस में विचार विमर्श किया। बैठक में बैंक, बीमा कंपनी, टेलीकाम एवं रिजर्व बैंक के अधिकारी भी शामिल थे। इस दौरान ओडिशा सरकार ने केरल मॉडल के जरिए सभी समस्या का समाधान करने का निर्णय लिया।

गौरतलब है कि केरल में तूफान आने के बाद रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया (आरबीआइ) की तरफ से एक मास्टर

सर्कुलर जारी किया गया था। जिसके मुताबिक केरल के बैंकों की तरफ से पुराने कर्ज का पुर्नगठन किया गया था। वहां के स्वयं सहायक संगठनों को एक लाख रुपये तक कर्ज प्रदान किया गया था। इसके साथ ही एक साल तक लोगों का कर्ज वसूली पर राहत प्रदान की गई थी। इस विषय पर गत 10 मई को आरबीआइ के डिप्टी गवर्नर की उपस्थिति में आयोजित एक बैठक में चर्चा की गई थी। उस समय आरबीआइ के डिप्टी गवर्नर ने इसे लेकर एक टास्क फोर्स र्मिंटग का निर्देश दिया था। 

जानकारी के मुताबिक राज्य सरकार केरल का मॉडल अपनाने का निर्णय लिया है। निर्णय के मुताबिक बैंक को कृषि आधारित कर्ज, उद्योग आधारित कर्ज, घर निर्माण के लिए कर्ज एवं शिक्षा के लिए कर्ज हेतु नया कर्ज पुनर्गठन व्यवस्था अपनाने की जानकारी मिली है। बैठक के बाद केंद्र सरकार के अतिरिक्त सचिव पंडा ने कहा है कि तूफान के बाद से ही समीक्षा हो रही है। बैंकिंग क्षेत्र से जिस प्रकार से लोगों को तत्काल सुविधा मिल पाए, उस पर पहले दिन से ही निर्देश दिया गया है। बिजली सेवा बाधित होने से यह संभव नहीं हो

सका था। जिन जगहों पर बिजली सेवा स्वभाविक हो गई है, उन जगहों पर बैंकिंग सेवा सामान्य कर दी गई है। जहां इंटरनेट व्यवस्था नहीं है वहां पासबुक के जरिए लोगों को दो से पांच हजार रुपये दिए जा रहे हैं।

प्रभावित क्षेत्र के अधिकांश बैंकों में कामकाज शुरू

राज्य में तूफान से प्रभावित छह जिला में 1992 बैंक शाखा में से 1934 शाखा में काम चल शुरू हो गया है। 2921 एटीएम में से दो हजार से अधिक एटीएम वर्तमान समय में काम कर रहे हैं। पुरी, कटक, एवं खुर्दा इलाके में कुछ एटीएम मशीन अभी भी काम नहीं कर रही हैं। एक सप्ताह के अंदर यहां भी एटीएम मशीन काम करने लगेगी। उसी तरह से बीमा कंपनियों को जल्द से जल्द राशि देने का निर्णय लिया गया है। राज्य वित्त सचिव मीना ने कहा है कि पुरी में 27 से 28 प्रतिशत एटीएम काम करने लगे हैं। मुद्रा योजना में होटल व्यापारियों को कर्ज देने पर चर्चा हुई है। 

 

लोकसभा चुनाव और क्रिकेट से संबंधित अपडेट पाने के लिए डाउनलोड करें जागरण एप

Posted By: Babita

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप