भुवनेश्वर, एएनआइ। ओडिशा में वीरवार को केंद्रीय मंत्री धर्मेंद्र प्रधान ने चक्रवात फणि को लेकर भुवनेश्वर में रेलवे अधिकारियों के साथ एक समीक्षा बैठक की।

धीरे-धीरे सामान्य हो रही जिंदगी

चक्रवात फणि से बुरी तरह प्रभावित पुरी, कटक और राजधानी भुवनेश्वर में आम जिंदगी धीरे-धीरे सामान्य हो रही है। बिजली और पानी जैसी मौलिक सेवा को दुरुस्त करने का काम युद्धस्तर पर जारी है। बीते शुक्रवार से अंधेरे में डूबे भुवनेश्वर, कटक के कई इलाकों में जलापूर्ति और विद्युतापूर्ति सेवा बहाल हो सकी है, लेकिन पुरी जिले में विद्युतापूर्ति अब तक बहाल नहीं हो पाई है। बुधवार को पूर्वी ओडिशा में विद्युतापूर्ति करने वाली कंपनी के वरीय महाप्रबंधक सुब्रत मिश्र ने बताया कि राजधानी भुवनेश्वर में साढ़े चार लाख विद्युत् उपभोक्ता हैं।

इनमें से मंगलवार की रात तक 7700 उपभोक्ताओं के घरों में विद्युतापूर्ति की जा चुकी है और बुधवार की शाम तक और 50 हजार उपभोक्ताओं के घरों में विद्युतापूर्ति कर दी जाएगी। 10 मई तक भुवनेश्वर 80 फीसद उपभोक्ता और 12 मई तक शत फीसद उपभोक्ताओं के घरों और दुकानों में विद्युतापूर्ति कर दी जाएगी। उन्होंने बताया की कटक में भी 90 फीसद उपभोक्ताओं के घरों और दुकानों में विद्युतापूर्ति बहाल कर दी गई है। मिश्र ने कहा कि चक्रवात फणि से बुरी तरह प्रभावित पुरी जिले में 12 मई से विद्युतापूर्ति का कार्य शुरू होगा और पूरे जिले में विद्युतापूर्ति में एक महीने तक का समय लग सकता है।

बताया कि चक्रवात से टूटे बिजली खंभों को बदला जाएगा। इसके लिए दुर्गापुर स्थित सेल संयंत्र से 15 हजार लोहे के खंभे मंगवाए गए हैं। इसी तरह कटक में 80 फीसद स्थानों में, खोर्दा के 70 फीसद स्थानों में और जटनी के 50 फीसद क्षेत्र में जलापूर्ति बहाल कर दी गई है।

 

लोकसभा चुनाव और क्रिकेट से संबंधित अपडेट पाने के लिए डाउनलोड करें जागरण एप

Posted By: Sachin Mishra

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप