संसू, भुवनेश्वर : लगातार मिट्टी के कटाव के कारण पूरी दुनिया में हर साल 75 बिलियन टन मिट्टी समुद्र या अन्य जलस्रोत में मिल रही है। अत: आज मृदा संरक्षण पर विशेष ध्यान देने का समय आ गया है। यह बात कृषि मंत्री अरुण साहू ने कही है। कृषि मंत्री ने कहा कि मृदा संरक्षण के साथ इसके संवर्धन पर भी गंभीरता से ध्यान देने की आवश्यकता है। जिस तरह से मिट्टी का कटाव लगातार जारी है उससे भविष्य में खेती किसानी के लिए बड़ा संकट उत्पन्न हो सकता है। किसानों को चाहिए कि वे मिटटी कटाव रोकने के लिए सरकार द्वारा सुझाए जा रहे विभिन्न उपाय पर अमल करें। साथ ही हर किसान अपनी मिटटी की गुणवत्ता की जांच कर उसकी ताकत के अनुकूल खेती किसानी पर ध्यान दें। मंत्री ने कहा की ओडिशा में 19 लाख किसानों को मृदा स्वास्थ्य कार्ड देने का लक्ष्य निर्धारित किया गया है। इस मौके पर ओयूएटी के डीन प्रो. केके राउत ने कहा कि मिट्टी की उपरी सतह पर ज्यादा ध्यान देना होगा। मिट्टी की ऊपरी एक इंच की परत में अगर हम कार्बन की मात्रा बढ़ा सके तो यह मिटटी का कटाव रोकने में कारगर भूमिका निभा सकता है।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस