संसू, भुवनेश्वर : ओडिशा के दक्षिण इलाके में माओवादी और पुलिस के मध्य सतत संघर्ष चलता है मगर एक माओवादी की बीमार मां को अस्पताल पहुंचाकर पुलिस ने मानवता का एक अच्छा उदाहरण पेश किया। घटना मलकानगिरी जिले के बड्डी गेटा पंचायत के टेकगुड़ा गांव की है। इलाके के हार्डकोर माओवादी रणदेव की 55 वर्षीय मां कई दिनों से बीमार थी। टेकगुड़ा गांव दुर्गम इलाका होने और गरीबी के कारण उनका इलाज नहीं हो पा रहा था। कालिमेला पुलिस को जब इसकी सूचना मिली तो उन्होंने स्थानीय लोगों की मदद से माओवादी रणदेव की मां रामे माढी को कालिमेला अस्पताल पहुंचाया। पुलिस के इस कार्य से गांव के लोग गदगद हैं। ग्रामवासियों ने रामे माढ़ी की बीमारी को लेकर पुलिस से संपर्क नहीं साधा था बल्कि किसी सूत्र से खबर मिलने पर पुलिस ने सहयोग का हाथ बढ़ाया। यहां यह बताना उचित होगा कि बडीगेटा पंचायत में माओवादी काफी सक्रीय हैं बावजूद इसके एक माओवादी की बीमार मां को कालिमेला अस्पताल पहुंचाने के लिए पुलिस ने जो उदाहरण पेश किया उसकी चर्चा इलाके में है। गुरुवार को पीड़ित रामे माढी को कालिमेला अस्पताल में भर्ती कराया गया है।

Posted By: Jagran