Move to Jagran APP

Odisha: किसान की खेत में लगे नलकूप से निकले सोने के टुकड़े ! देखने के लिए उमड़ी भीड़, घटनास्थल सील

gold from tubewell बलांगीर जिला का खप्राखोल इलाके में किसान ने खेत में नलकूप खुदवाया था। वह शनिवार के दिन मोटरपंप की सहायता से नलकूप में फंसे मिट्टी को बाहर निकाल रहा था। इसी दौरान उसे पीले छोटे-छोटे पत्थर के टुकड़े दिखाई दिए।

By Jagran NewsEdited By: Roma RaginiPublished: Sat, 25 Mar 2023 03:27 PM (IST)Updated: Sat, 25 Mar 2023 03:27 PM (IST)
किसान की खेत में लगे नलकूप से निकले सोने के टुकड़े

संबलपुर, संवाद सूत्र। पश्चिम ओडिशा के बलांगीर जिला का खप्राखोल इलाका सुर्खियों में है। एक किसान के खेत में नलकूप से सोने जैसे छोटे-छोटे टुकड़े निकल रहे हैं। सूचना पर खप्राखोल बीडीओ, तहसीलदार और थानेदार घटनास्थल पर पहुंचे और मामले की जांच की।

जानकारी के अनुसार, मोहम्मद जावेद नामक एक किसान के खेत में खोदे गए नलकूप से सोने जैसे टुकड़े निकल रहे हैं। पुलिस अधिकारियों ने कथित सोने के टुकड़ों को जब्त कर लिया और उसका नमूना जांच के लिए भेजा है। इसके अलावा, खेत को सील कर दिया गया है।

मामला प्रसिद्ध गंधमार्दन पहाड़ी की तलहटी पर बसे बलांगीर जिला खप्राखोल ब्लॉक अंतर्गत छांचानबाहाली गांव का है। यहां रहने वाले किसान मोहम्मद जावेद ने एक महीने पहले खेत की सिंचाई के लिए नलकूप खुदवाया था। शनिवार के दिन जावेद जब मोटरपंप की सहायता से नलकूप में फंसे मिट्टी को बाहर निकाल रहा था, तभी मिट्टी और कीचड़ के साथ पीले रंग के पत्थर के टुकड़े भी निकलने लगे।

कुछ लोगों ने उन पत्थरों को देख सोना बताया। इसी के बाद, नलकूप से सोने के पत्थर निकलने की खबर आग की तरह चारों तरफ फैल गई। मौके पर लोगों की भीड़ जमा हो गई। गांव वालों का विश्वास है कि गंधमार्दन पहाड़ी ना केवल आयुर्वेदिक जड़ी बूटियों से भरी है बल्कि पहाड़ी में कई तरह के धातु भी दबे हैं।

ग्रामीणों का कहना है कि उनका गांव इस पहाड़ी की तलहटी पर है, ऐसे में सोना निकालना असंभव नहीं। उधर, सोने के पत्थर निकलने की खबर के बाद प्रशासन ने इस बारे में विशेषज्ञों से सलाह करने का निर्णय लिया है।


This website uses cookies or similar technologies to enhance your browsing experience and provide personalized recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.